Browsing Tag

Shani dev ki vakri awastha

Shani dev : पांच जून से शुरू हो चुकी है शनि देव की वक्री अवस्था, इन राशि वालों पर जमकर बरसेगी कृपा,…

वैदिक ज्योतिष में किसी भी ग्रह का स्थान परिवर्तन सभी व्यक्तियों को प्रभावित करता है। वक्री गति हो या गोचर, सभी राशियां इससे प्रभावित होती हैं। कर्म का कारक शनि सभी में सबसे धीमी गति से चलने वाला ग्रह है। ज्योतिषियों के अनुसार शनि ने 5 जून…
Read More...