सेल्फ फाइनेंस विद्वानों को भी वेतन दें सरकार: निलय डागा

विधायक ने उच्च शिक्षा मंत्री को पत्र लिखकर की मांग

0

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    बैतूल विधायक निलय विनोद डागा ने शासकीय अतिथि विद्वान (visiting scholar) की भांति स्ववित्त (self financed) विद्वानों को भी वेतन देने की मांग प्रदेश सरकार से की है। अभी इनका वेतन जनभागीदारी समिति (public participation committee) से दिया जाता है। इस समिति में जिला कलेक्टर अध्यक्ष होते हैं। वहीं अतिथि विद्वानों को शासन द्वारा वेतनमान प्रदान किया जाता है। ऐसी स्थिति में विधायक (MLA) ने उच्च शिक्षा मंत्री को पत्र लिखा है। उन्होंने शासन से सेल्फ फाइनेंस विद्वानों के न्यूनतम वेतनमान 35 हजार देने संबंधी निर्देश देने की भी मांग की है।

    यह भी पढ़ें…धर्म कार्य के साथ नए साल की शुरुआत करेंगे विधायक निलय डागा

    आधे से भी कम वेतन देकर करवा रहे अतिरिक्त कार्य
    विधायक श्री डागा ने बताया कि वर्तमान में सेल्फ फाइनेंस विद्वान सरकारी अतिथि विद्वान से आधे वेतनमान पर कार्य कर रहे हैं। अतिथि विद्वानों को न्यूनतम वेतन लगभग 35 हजार रुपए शासन द्वारा दिया जा रहा है। वहीं सेल्फ फाइनेंस विद्वानों को महज 15 से 17 हजार दिए जा रहे हैं। इसमें भी इन सेल्फ फाइनेंस विद्वानों से महाविद्यालय के अतिरिक्त कार्य करवाए जा रहे हैं। इन अतिरिक्त कार्यों का उन्हें कोई भुगतान नहीं किया जा रहा है। विधायक ने कहा कि जब दोनों अतिथियों का काम बराबर है तो सेल्फ फाइनेंस विद्वानों के साथ भेदभाव क्यों? इन्हें भी न्यूनतम वेतन 35000 दिया जाना चाहिए।

    यह भी पढ़ें… संविदा स्वास्थ्यकर्मियों के नियमितीकरण के लिए विधायक निलय डागा ने भरी हुंकार

    जेएच कॉलेज में 27 सेल्फ फाइनेंस विद्वान
    वर्तमान में सेल्फ फाइनेंस विद्वान सरकारी अतिथि विद्वान से आधे वेतनमान पर कार्य कर रहे हैं। जेएच कॉलेज में 27 व कन्या महाविद्यालय में 6 अतिथि विद्वान हैं, जिनसे इतने कम वेतनमान पर कार्य लिया जा रहा है।

    यह भी पढ़ें… जन्मदिन पर भगवा रंग में रंगे विधायक बैतूल निलय डागा

    दोयम दर्जे की नीति अपना रहा शासन
    विधायक का कहना है कि सेल्फ फाइनेंस योजना में पढ़ाने वाले अतिथि विद्वानों के सामने आर्थिक संकट की स्थिति निर्मित हो गई है। प्रदेश सरकार की दोयम दर्जे की नीति इन विद्वानों के लिए आर्थिक एवं मानसिक प्रताड़ना का सबब बन गई है।

    यह भी पढ़ें… सेहरा पीएचसी को मिली एम्बुलेंस, विधायक निलय डागा ने अपनी निधि से दी सौगात

    स्ववित्त योजना में संचालित होते हैं ये कोर्स
    सरकारी कॉलेजों में बीबीए, एमबीए, बीसीए, पीजीडीसीए, एमएससी के माइक्रोबायोलॉजी, बायोटेक्नोलॉजी, फूड टेक्नोलॉजी सहित कुछ अन्य प्रोफेशनल कोर्स स्ववित्त योजना से ही संचालित होते हैं। इन कोर्सेस को पढ़ाने नियमित शिक्षकों की नियुक्ति नहीं की जाती है। छात्रों से जो फीस आती है, उससे ही स्ववित्त अतिथि विद्वान को मानदेय दिया जाता है। शिक्षा विभाग के नियमों के तहत स्ववित्त अतिथि विद्वान को पीरियड के हिसाब से वेतन देने का प्रावधान है। महीने में अधिकतम 20 दिन कक्षाएं लगती हैं। ऐसी स्थिति में एक शिक्षक को नाम मात्र का वेतन मिलता हैं।

    यह भी पढ़ें… विधायक निलय डागा के दीपावली मिलन का अंदाज अलबेला; युवाओं को लगाया गले तो बुजुर्गों से लिया आशीर्वाद

  • Leave A Reply

    Your email address will not be published.

    ब्रेकिंग
    MP Weather Alert : नहीं सुधर रहा मौसम का मिजाज, अब इन जिलों के लिए आंधी-तूफान और बारिश का अलर्टToday Betul Mandi Bhav : आज के कृषि उपज मंडी बैतूल के भाव (दिनांक 22 फरवरी, 2024)Laxmi Mata Bhajan : शुक्रवार के दिन माँ लक्ष्मी के इस भजन को सुनने से सुख-समृद्धि आती है 'मेरी पूजा...TVS Raider 125: TVS ने पेश किया Raider 125 का नया वेरिएंट, फीचर्स देख बन गया हर कोई इसका दीवानाAmul Milk Dairy: हर दिन 200 करोड़ का ऑनलाइन पेमेंट करती है यह दुग्ध उत्पादक सहकारी समितिMP News : पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक बार फिर हुए वायरल, जानें इस बार क्या किया...Optical Illusion : पपीते के बीच कहां छिपा है गुलाब, क्‍या 1 मिनट में खोज सकते है आप? बड़े-बड़े जीनिय...Viral Jokes: सरकार ने फरमान जारी किया चालक, पुरुष हो या स्त्री टू-व्हीलर चलाते समय हेलमेट पहनना जरूर...Bhool Bhulaiyaa 3: कियारा आडवाणी का पत्‍ता कट, एनिमल के बाद 'भूल भुलैया 3' में नजर आएगी तृप्ति डिमरीIPL Schedule 2024 : जल्द होगा IPL का शेड्यूल रिलीज, चुनाव को देखते हुए बोर्ड ने लिया ये फैसला