अजीब है इन महाशय का शौक, नहीं रह सकते मिट्टी खाए बगैर

  • मनोहर अग्रवाल, खेड़ी सांवलीगढ़ (बैतूल)
    सबका खाने का शौक और पसंद अलग-अलग होता है। किसी को मीठा पसंद होता है तो किसी को तीखा या चटपटा पसंद होता है, किसी को मांसाहार भाता है तो किसी को शाकाहार ही लुभाता है, लेकिन यदि आपको यह पता चले कि बैतूल जिले में एक शख्स ऐसा भी है जिसे केवल मिट्टी खाना पसंद है तो आश्चर्य होना लाजमी है पर यह एक हकीकत है। मिट्टी खाने की अजीबोगरीब आदत से मजबूर, लाचार यह महाशय हैं भैसदेही विकासखंड की ग्राम पंचायत केरपानी के ताप्ती नदी किनारे बसे ग्राम दादूढाना निवासी गुड़राव पिता सद्दू धुर्वे।

    यह भी पढ़ें… अजब है इनकी समस्या, कोविड वैक्सीन को लेकर भर चुके अभी तक 9000 रुपये जुर्माना

    बताते हैं कि 30 वर्षीय युवक गुड़राव को बचपन से ही मिट्टी खाने की आदत है और अब वह इसका आदी हो चुका है। इसकी यह आदत स्कूल में भी नहीं गई। यह जेब में रखकर जब भी मौका मिलता मिट्टी खाने लगता। इतना ही नहीं 9 वीं क्लास पढ़ने के बाद उसने स्कूल की पढाई छोड़ दी। 20 वर्ष की उम्र में परिवार के लोगों ने गुड़राव की शादी कर दी। अब शादी हुए 5 वर्ष हो गए, लेकिन नहीं छूटी तो उस शख्स की मिट्टी खाने की आदत। पत्नी रामकला ने बताया कि उनका पति गुड़राव मिट्टी बहुत खाता है। कभी हमारे सामने, तो कभी छिप-छिप कर मिट्टी खाना इनकी आदत बन गई है। इस आदत से हम भी परेशान हैं। गुड़राव की एक पुत्री भी है, उसे भी पापा की मिट्टी खाने की आदत से बड़ी नाराजी है। घर का छोटा बच्चा मिट्टी नहीं खाता है, लेकिन पापा मिट्टी खाता है। पत्नी रामकला बताती है मिट्टी खाने से उनका पेट भी बढ़ रहा है।

    यह भी पढ़ें… अजीबो गरीब चोरी: टेबल के पाइप भी नहीं छोड़े चोरों ने

  • Leave a Comment