रोचक: केवल बांस और लकड़ी से बना है मूढ़ा रेस्ट हाउस

मन मोह लेता है सतपुड़ा की वादियों के आगोश में बसा यह सुंदर स्थान

0

  • उत्तम मालवीय (9425003881)
  • बैतूल। जिले में एक ओर जहां प्रकृति ने भरपूर सौंदर्य बिखेरा है वहीं दूसरी ओर ऐसे भी कई स्थान है जो अपने आप में कोई न कोई विशिष्टता समेटे हुए हैं और उनका यह वैशिष्ट्य ही उन्हें एक अलग पहचान दिलवाता है। अभी तक हम दोस्तों ने जिन स्थानों पर सैर सपाटा किया है उनमें से शाहपुर ब्लॉक के मूढ़ा रेस्ट हाउस ने भी हमारे दिलों दिमाग में एक विशेष छाप छोड़ी है क्योंकि इस रेस्ट हाउस का निर्माण ही एक खास अंदाज में हुआ है।

    ●यहां देखें मूढ़ा की सुंदरता की और तस्वीरें…

    जब भी किसी भवन का निर्माण करना होता है तो इंटीरियर की तैयारी तो आखिर में होती है सबसे पहले रेत, गिट्टी, ईंटा और लोहे की व्यवस्था करना होता है। इनके बगैर कोई भी भवन निर्माण सम्भव नहीं है, लेकिन आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि मूढ़ा रेस्ट हाउस के निर्माण के लिए इनमें से किसी का भी उपयोग नहीं किया गया है। वन विभाग की भौंरा रेंज में स्थित है मूढ़ा रेस्ट हाउस जो कि शाहपुर और भौंरा दोनों ही स्थानों से करीब 20-21 किलोमीटर दूर है। यह रेस्ट हाउस भी वन विभाग का ही है।

    वन विभाग का एम्बेसडर बन गया रेस्ट हाउस
    वन विभाग ने इसका निर्माण इस अंदाज में कराया है कि यह रेस्ट हाउस ही विभाग का एम्बेसडर या प्रतीक नजर आता है। दरअसल, इसका निर्माण पूरी तरह से बांस और लकड़ी के सहारे किया गया है। दीवारों से लेकर, पिलर और छत तक सब कुछ वनों से प्राप्त होने वाले बांस व लकड़ियों से बने हैं। खिड़कियों में भी लोहे की जाली की जगह बांस की ही आकर्षक जालियां लगी है जो कि बेहद उम्दा कलाकृति नजर आती है। इसी तरह पूरा फर्नीचर भी बांस व लकड़ी का है।

    चारों तरफ बिखरी है हरियाली
    रेस्ट हाउस में पदस्थ कर्मचारियों का कहना है कि पूरे रेस्ट हाउस में ऐसी कोई भी सामग्री नहीं लगी है जिसे बाजार से लाना पड़ा हो। इस तरह यहाँ आने वाले हर व्यक्ति के लिए यह एक कौतूहल का विषय बन जाता है। यह तो हुई रेस्ट हाउस की विशिष्टता की बात, अब जरा चर्चा कर लें यहां की कुदरती खूबसूरती की। पहाड़ की बिल्कुल तलहटी में बसा यह स्थान यहां आने वाले हर व्यक्ति का मन मोह लेता है। रेस्ट हाउस के चारों ओर हरियाली बिखरी है।

    मूढ़ा का सफर भूल पाना सम्भव नहीं
    रेस्ट हाउस से बाहर निकलते ही ऊंचे और हरे-भरे पहाड़ नजर आते हैं। यही नहीं शाहपुर से लेकर भौंरा तक का सफर भी कम मजेदार नहीं है। मार्ग के दोनों ओर पहाड़ियां, हरियाली, ऊंचे-ऊंचे पेड़, घने वन, फसलों से लहलहाते खेत, ग्राम्य जनजीवन की झलक, कल कल बहती नदी और इनके बीच से मूढ़ा तक का सफर कभी भी भूल पाना सम्भव नहीं है।

    Leave A Reply

    Your email address will not be published.

    ब्रेकिंग
    Aaj Ka Rashifal 26 February 2024 : आज इन राशियों का चमकेगा भाग्य, पूरे होंगे अधूरे काम, इन्हें संभल ...Betul Crime News : हंसी-मजाक में विवाद, बुजुर्ग का कुल्हाड़ी से काट दिया गला; सड़क हादसों में 2 की मौतSudarshan Bridge Gujrat : शुरू हुआ भारत का सबसे लंबा केबल ब्रिज, 2.32 किमी. है लंबा, तस्वीरें मोह ले...Mahakal Bhajan: घर में सुख समृद्धि के लिए आज के दिन सुने महादेव का ये भजन 'हम भी बोले महाकाल'....Viral Video: चंद मिनटों में पैक कर दी महिला ने कई साइकिलें, वायरल वीडियो देख लोग हुए ShockedUPSC Success Story : सीखने की चाहत ने पहुंचाया IAS के पद तक, पहले ही कोशिश में हासिल की 19वीं रैंक, ...Viral Jokes : गणित की में टीचर ने पूछा- बताओ 1000 किलो= एक टन, तो 3000 किलो कितना होगा? पप्पू....Solar Rooftop Scheme: 1 करोड़ परिवार को ऐसे मिलेगी 300 यूनिट मुफ्त बिजली, जानिए कैसे करें आवेदन....Loksabha Election 2024: लोकसभा चुनाव प्रभारियों की सूची जारी, MP में इन्हें दी जिम्मेदारीKabira Mobility Electric Bike : इस भारतीय कंपनी ने निकाला ओला का दम, ये बाइक एक चार्ज में चलती हैं प...