देखें वीडियो: बैतूल में निकाली गई सीएम के पुतले की अर्थी, पुलिस से झूमा झटकी

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    पंचायत चुनाव में पिछड़ा वर्ग के आरक्षण का मुद्दा अब तूल पकड़ता जा रहा है। इस वर्ग की अनदेखी के चलते कांग्रेस के तेवर भी तीखे दिख रहे हैं। शनिवार को इसी मुद्दे को लेकर बैतूल शहर में विधायक निलय डागा और जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील (गुड्डू) शर्मा के नेतृत्व में कांग्रेसजनों द्वारा जंगी प्रदर्शन किया गया।

    गंज स्थित युकां कार्यालय से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पुतले की अर्थी निकाली गई। अर्थी के पुतले को छीनने के लिए पुलिस और कांग्रेसजनों के बीच झूमाझटकी भी हुई, लेकिन इसके बावजूद कांग्रेसी पुतले को आग लगाने में सफल हो गए। इसके पश्चात सभी कांग्रेसी शिवराज सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए युकां कार्यालय पहुंचे। यहां पुनः मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पुतला फूंका गया। कांग्रेस की मांग है कि पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) को कांग्रेस सरकार द्वारा दिया गया आरक्षण का शत प्रतिशत लाभ दिया जाना चाहिए।

    झूठ बोलने का एजेंडा लेकर चल रही भाजपा: डागा
    धरना-प्रदर्शन के दौरान संबोधित करते हुए बैतूल विधायक निलय डागा ने भाजपा की दोहरी नीति का खुलासा करते हुए कहा कि पिछड़ा वर्ग आरक्षण को लेकर भाजपा झूठ का एजेंडा लेकर चल रही है। झूठ बोलो, एक बार बोलो और जरूरत पड़े तो बार-बार बोलो भाजपाई यही नीति अपनाकर चल रहे हैं। वर्ष 2003 से 2018 तक प्रदेश में भाजपा के तीन मुख्यमंत्री रहे जिनमें उमा भारती,स्व. बाबूलाल गौर और मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शामिल हैं, लेकिन इन 15 सालों में इन मुख्यमंत्रियों ने पिछड़ा वर्ग की लगातर अनदेखी की। कमलनाथ सरकार बनने के बाद कांग्रेस ने सबसे पहले पिछड़ा वर्ग को सम्मान के साथ 27 प्रतिशत आरक्षण प्रदान किया। इसके विरोध में भाजपा सरकार का एक वकील इस आरक्षण को रोकने के लिए उच्च न्यायालय गया, जहां से भाजपा को इस आरक्षण को रोकने के लिए स्थगन आदेश प्राप्त हुआ।वर्तमान में होने वाले पंचायत चुनावों में भाजपा सरकार बिना रोटेशन प्रणाली और परिसीमन तथा आरक्षण के चुनाव कराने की कोशिश कर रही है, जबकि संविधान के अनुसार समय सीमा बीत जाने के बाद एक साल के भीतर रोटेशन प्रणाली के तहत परिसीमन और आरक्षण किया जाना चाहिए था। भाजपा सरकार वर्ष 2014 के आरक्षण और परिसीमन के आधार पर चुनाव कराना चाहती है जो संविधान का उल्लंघन है।हम चाहते हैं कि इतना समय बीत जाने के बाद नई रोटेशन प्रणाली, परिसीमन और आरक्षण के आधार पर चुनाव कराए जाएं। भाजपा की सरकार यह होने नहीं देना चाहती। यही वजह है कि हमें इसका पुरजोर विरोध करना पड़ रहा है।

    पिछड़ा वर्ग का आरक्षण खत्म करना चाहती है भाजपा: शर्मा
    जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील शर्मा का कहना था कि वर्षों से बिना आरक्षण के ओबीसी समाज अपने आप को उपेक्षित महसूस कर रहा था। कमलनाथ सरकार ने ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण प्रदान किया। तभी से भाजपा इस आरक्षण को खत्म करने की कोशिश कर रही है जो पिछड़ा वर्ग के हमारे भाई बंधुओं के साथ अन्याय है। प्रत्येक कांग्रेसी भाजपा की इस नीति को लेकर आक्रोशित है। ऐसा कतई नहीं होने दिया जाएगा। आज पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पुतले की शवयात्रा निकाली गई और पुतला दहन कर विरोध प्रकट किया गया। यदि पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को रोकने की कोशिशें बंद नहीं की गई तो ओबीसी समाज को सम्मान दिलाने के लिए प्रत्येक कांग्रेसी भाजपा की ईंट से ईंट बजा देगा। प्रदर्शन कार्यक्रम में सैकड़ों की संख्या में कांग्रेसी उपस्थित थे।

  • Leave a Comment