कौन थे वे जो एक साथ निकले हाथों में लाठियां लेकर…


उत्तम मालवीय (9425003881)◆
बैतूल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने रविवार को शहर के भग्गूढाना क्षेत्र के विभिन्न मार्गों पर पथ संचलन किया। इसमें कदमताल करते हुए स्वयंसेवक हाथों में लाठियां थामे हुए क्षेत्र की सड़कों पर अनुशासन का उदाहरण पेश करते हुए निकले। यह संचलन जिस भी मार्ग से निकला, वहां लोगों ने फूल बरसाकर और तालियां बजाकर स्वयंसेवकों का स्वागत किया। स्वयंसेवक खाकी पैंट, सफेद शर्ट, काली टोपी, काले जूते और काली बेल्ट वाली वेशभूषा में पंक्तिबद्ध होकर चल रहे थे। एक स्वयंसेवक संघ के केसरिया ध्वज को धारण किए चल रहा था। संघ के बैंड की धुन पर सभी स्वयंसेवक ताल से ताल मिलाते हुए चल रहे थे। पथ संचलन में स्वयंसेवक देश की पुकार पर-नौजवान बढ़े चलो गीत गुनगुना कर लोगों को देश सेवा के लिए प्रेरित कर रहे थे। पथ संचलन ग्रीन सिटी विवेकानंद वार्ड से शुरू होकर शंकर नगर, विनोबा नगर होते हुए पुनः ग्रीन सिटी पहुंचकर समाप्त हुआ।
सुरक्षा के रहे कड़े इंतजाम: पथ संचलन को लेकर पुलिस ने सुरक्षा के कड़े इतंजाम कर रखे थे। समूचे मार्ग पर पुलिस के जवानों को तैनात किया गया था। सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस वाहन पूरे समय पथ संचलन के दौरान आगे एवं पीछे चलते हुए नजर रखे हुए था।

भारत देश फिर से बने वैभवशाली यही है संघ का उद्देश्य: रामपाल जी
संघ के प्रचारक एवं जिला ग्राम विकास प्रमुख रामपाल जी ने बताया कि संघ की भगत सिंह भक्ति के तहत पथ संचलन निकाला गया। पथ संचलन के पूर्व उन्होंने स्वयंसेवकों को संघ के उद्देश्य से अवगत कराया। उन्होंने देश की वर्तमान परिस्थितियों के संदर्भ में आज के स्वयंसेवकों की भूमिका क्या हो सकती है, इसके संबंध में विस्तृत चर्चा की। साथ ही वर्तमान चुनौतियों का सामना हम संगठित होकर कैसे कर सकते हैं, इस बारे में भी स्वयंसेवकों को जानकारी दी। स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हमें सभी वर्गों को साथ में लेकर चलना है ताकि सामाजिक समरसता का वातावरण बने, समाज में एकता आए, भारत देश फिर से वैभवशाली हो, यही संघ का उद्देश्य है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *