कैंसर जैसे जानलेवा रोग का अग्रिम एवं नि:शुल्क टीका है लक्ष्मी तरु

‘तन समर्पित, मन समर्पित और यह जीवन समर्पित… चाहता हूं देश की धरती तुझे कुछ और भी दूं’ साहित्य जगत की कालजयी रचना से उद्धृत उक्त पंक्तियां हमें हर पल राष्ट्र के लिए, समाज के लिए, धर्म के लिए और असहायों, निरक्षरों तथा गरीबों के लिए कुछ ना कुछ करते रहने की प्रेरणा देती है।

हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को याद किए बिना आज का दिन बेकार ही जाएगा। सरकार ने आज के दिन यानी 4 फरवरी को कैंसर दिवस (cancer day) घोषित करके अपना काम पूर्ण किया है। अब हम लोगों का दायित्व है कि हम इस रोग से बचाव तथा रोकथाम के लिए जैसा सामर्थ्य है, कैंसर पीड़ितों तथा उनकी परेशानी झेल रहे परिजनों की क्या और कैसे मदद कर सकते हैं?

बैतूल जिले में कैंसर फाइटर (cancer fighter) आदरणीय हेमंत बबलू दुबे पीड़ितों तथा परिजनों के मार्गदर्शन हेतु हमेशा तत्पर रहते हैं। कोई भी व्यक्ति उनसे मार्गदर्शन ले सकता है। जागरूक नागरिक रोग का पता लगते ही परिजनों तथा रोगी को ढ़ाढस बंधाए तथा उचित मार्गदर्शन हेतु दुबे जी का पता, मोबाइल नंबर के साथ पीड़ित परिवार को उपलब्ध कराएं।

सोशल मीडिया पर सारी सलाह तथा जानकारी उपलब्ध है। लोगों को मदद भी मिल रही है। परंतु रोग का पता लगते ही रोगी से ज्यादा परिजन चिंता ग्रस्त हो जाते हैं। यही वह समय होता है उनका हौसला बढ़ाने का धीरज धारण कराने का। रोगी को उसके विश्वास अनुसार सभी थैरेपी की चिकित्सा कराने की आजादी दी जानी चाहिए।

गत वर्षो में महेश वर्मा, हीरामन मालवीय, नागेंद्र सरनकर, डीके शर्मा तथा राजकुमार रायपुरे कुछ ऐसे नाम हैं, जिन्होंने कैंसर रोग के निदान हेतु “लक्ष्मीतरु” (Lakshmitaru) जिसका वानस्पतिक नाम “सिमराउबा ग्लाइका” (cimaruba glyca) है, की पत्तियों के काढ़े के सेवन से आशातीत लाभ दिलाया है। नि:शुल्क काउंसलिंग तथा पत्तियां उपलब्ध कराने में ऐसे अनेक लोग जिले में कार्य कर रहे हैं। जिले के हर विकासखंड मुख्यालय पर लक्ष्मीतरु की पत्तियां नि:शुल्क उपलब्ध है।

बैतूल के समीप महदगांव निवासी गणेश बारस्कर बैतूल की महतो कॉलोनी में रहकर कैंसर रोगियों को पत्तियां उपलब्ध कराकर मानव सेवा धर्म का निर्वहन कर रहे हैं। आपने अपने कृषि फार्म महदगांव में एक हेक्टेयर में सिमराऊबा ग्लाइका यानी लक्ष्मीतरु के पौधों का रोपण किया था जो आज बड़े वृक्ष बन चुके हैं। सोशल मीडिया पर समस्त जानकारी उपलब्ध है।

मैंने जिले के सभी पुलिस थानों, चौकियों, पुलिस लाइन में एसपी से मिलकर लक्ष्मी तरु के पौधे लगवा दिए हैं। जिले के शिक्षा अधिकारियों से मिलकर शिक्षकों के माध्यम से जिले के समस्त ग्रामों/शाला में कम से कम एक एक पौधा लगवा दिया है। जिला पंचायत सीईओ से मिलकर बैतूल जनपद की प्रत्येक ग्राम पंचायत में पौधा लगवा दिया है। साथ ही रोगियों को लक्ष्मी तरु का पौधा नि:शुल्क उपलब्ध कराने के साथ-साथ चिर परिचितों के माध्यम से देश के प्रत्येक राज्य में पौधे को पहुंचाने में कार्य निरंतर चल रहा है।

इस वर्ष योगग्राम हरिद्वार में एक हजार पौधे लगवाने हेतु योगगुरु स्वामी रामदेव बाबा (Swami Ramdev Baba) को तैयार कर लिया है। जहां रिसर्च की जाएगी। मेरा मानना है कि आगामी वर्षों में हमें लक्ष्मीतरु चलता फिरता अस्पताल के रूप में तथा कैंसर का अग्रिम एवं नि:शुल्क टीके के रूप में मानव सेवा करता मिलेगा। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ…..

रमेश वर्मा, मलकापुर (बैतूल)
© 9425464493

Leave a Comment