इन्हें मिला बैतूल शहर की पहली ब्रांड एम्बेसडर बनने का गौरव, जानिएं कौन हैं वे और क्यों दी गई उन्हें यह जिम्मेदारी


● उत्तम मालवीय (9425003881)

बैतूल। प्रदेश एवं संभाग में कई वर्षों से बैतूल नगर पालिका स्वच्छता सर्वेक्षण में अपना विशिष्ट स्थान बनाए हुए हैं। यही नहीं वर्ष दर वर्ष रैंकिंग में भी सुधार हो रहा है। अब वर्ष 2022 के लिए स्वच्छता सर्वेक्षण भी शुरू हो गया है। इस स्वच्छता अभियान में शहर का हर नागरिक जुड़े, इसके लिए नगर पालिका प्रशासन बैतूल अपने स्तर पर हर प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में पर्यावरण के क्षेत्र में सक्रिय श्रीमती नेहा गर्ग को ब्रांड एम्बेसडर बनाया गया है।
श्रीमती नेहा गर्ग को बैतूल की पहली महिला ब्रांड एम्बेसडर बनने का अवसर मिला है। उल्लेखनीय है कि श्रीमती नेहा गर्ग पूर्व में भारत सरकार की ओर से चयनित होकर दुबई में आयोजित इंटरनेशल फेस्टीवल में शामिल हो चुकी है। इस फेस्टीवल में 125 देशों के शिल्पकार अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हैं। इन देशों के पेवेलियन में इनकी संस्कृति, सम्पन्नता एवं परम्पराओं की जानकारी भी मिलती है। 300 से अधिक आकृतियों को गणेश प्रतिमा का आकार देकर इस फेस्टीवल में अपना स्टॉल लगाने वाली नेहा गर्ग ने ये सभी प्रतिमाएं उन वस्तुओं से बनाई थी, जिन्हें लोग फेंकने योग्य समझते हैं। इनके अलावा भोपाल वन मेले एवं ग्वालियर मेले में भी नेहा गर्ग की कलाकृतियों को प्रोत्साहन मिल चुका है। श्रीमती गर्ग के कार्यों को बैतूल से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक की मीडिया ने प्रसारित कर उनको प्रोत्साहित किया है।
श्रीमती नेहा गर्ग का मानना है कि महिलाओं को कुछ हट कर कार्य करना चाहिए जिससे उनकी एक अलग पहचान बने। इसी को लेकर मैंने सोचा कि क्यों न कुछ ऐसा कार्य किया जाएं जिससे महिलाओं को अच्छा संदेश मिले और वे कुछ कर सकें। घर में पड़े वेस्ट मटेरियल जिसमें प्लास्टिक भी होता है जो पर्यावरण के लिए नुकसानदायक होता है और स्वच्छता को भी हानि पहुंचाता है। और इसी वेस्ट मटेरियल का उपयोग कर मैंने उद्यान विकसित किया। घर में टायर, मटके, खराब हो चुके आरओ की बॉडी, पानी की बोतलें, मच्छरदानी की रिंग, साइकिल की रिंग, पुराने कप, बेसिन, पाइप को फेंकने के बजाय अपनी बागवानी में उपयोग कर लिया।
बैतूल की स्वच्छता रैंकिंग और ऊपर लाने का करेंगे प्रयास
जिले में पहली महिला ब्रांड एम्बेसडर बनाए जाने के बाद श्रीमती गर्ग का कहना है कि जिस तरह से इंदौर के आमजन स्वच्छता और पर्यावरण को लेकर शासन-प्रशासन को सहयोग कर रहे हैं वही भावना हमारे शहर के आमजन में भी आनी होगी। तभी हम भी इंदौर शहर की तरह स्वच्छता रैंकिंग में अव्वल आ सकेंगे। उन्होंने शहरवासियों विशेषकर महिलाओं से भी अपील की है कि वे भी घर के कबाड़ को फेंकने की जगह उसके उपयोग पर ध्यान दें तो शहर की स्वच्छता रैंकिंग भी सुधरेंगी और पर्यावरण को भी प्रदूषित होने से बचाने में महत्वपूर्ण सहयोग मिल सकेगा। श्रीमती नेहा गर्ग का कहना है कि नगर पालिका प्रशासन के मार्गदर्शन में लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए सेमीनार, प्रदर्शनी एवं अन्य आयोजन किए जाएंगे।

Leave a Comment