Betul Update: जाको राखे साइयां… युवक के ऊपर से गुजर गई 22 डिब्बों की ट्रेन फिर भी नहीं हुआ बाल भी बांका

Betul Update: जाको राखे साइयां... युवक के ऊपर से गुजर गई 22 डिब्बों की ट्रेन फिर भी नहीं हुआ बाल भी बांका▪️ विनोद पातरिया, घोड़ाडोंगरी (बैतूल)

Betul Update: जाको राखे साइयां, मार सके न कोय… यह कहावत एक बार फिर मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में चरितार्थ हुई। जिले के घोड़ाडोंगरी रेलवे स्टेशन पर एक युवक दक्षिण एक्सप्रेस ट्रेन से गिरकर प्लेटफॉर्म और पटरी के बीच फंस गया। उसके ऊपर से 22 डिब्बों की ट्रेन गुजर गई। इसके बावजूद युवक सकुशल बच गया। उसे केवल नीचे गिरने के दौरान हाथ में चोट भर आई है। उसे घायल अवस्था में घोड़ाडोंगरी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसका इलाज चल रहा है।

घोड़ाडोंगरी जीआरपी से मिली जानकारी के अनुसार घोड़ाडोंगरी रेलवे स्टेशन पर रविवार को चलती दक्षिण एक्सप्रेस ट्रेन से गिरकर आमढाना निवासी संतलाल मवासे उर्फ गोलू प्लेटफॉर्म और पटरी के बीच फंस गया था। इसके बाद उसके ऊपर से ट्रेन गुजर गई। ट्रेन से गिरकर युवक प्लेटफार्म और पटरी के बीच फंस गया था।
युवक के ऊपर से ट्रेन गुजर गई। लेकिन, युवक प्लेटफॉर्म से चिपका रहा। जिसके कारण ट्रेन निकलने के दौरान युवक ट्रेन की चपेट में आने से बच गया। युवक के हाथ में जरुर थोड़ी चोट आई है। उसे घोड़ाडोंगरी अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां उसका इलाज चल रहा है। इस घटना के बारे में सुनकर लोग यही कह रहे हैं कि जाको राखे साइयां, मार सके न कोय।

Betul Update: जाको राखे साइयां... युवक के ऊपर से गुजर गई 22 डिब्बों की ट्रेन फिर भी नहीं हुआ बाल भी बांकायुवक ने बताया, कैसे रहा सुरक्षित

हादसे में घायल युवक संतलाल मवासे उर्फ गोलू ने बताया कि वह घोड़ाडोंगरी रेलवे स्टेशन पर हैदराबाद जाने के लिए दक्षिण एक्सप्रेस में चढ़ा था। ट्रेन के जनरल कोच में अधिक भीड़ होने के कारण वह गेट पर लटका रहा और ट्रेन चलने लगी। इसी दौरान वह ट्रेन से नीचे गिर गया और प्लेटफॉर्म व पटरी के बीच फंस गया।

इस हादसे से वह बड़ा घबरा गया था, लेकिन लोगों ने चिल्लाया कि बिल्कुल भी हिलना और सिर मत उठाना। इसलिए एक ही स्थान पर चिपका रहा और बिल्कुल भी नहीं हिला। इससे ट्रेन निकल गई और उसे कोई चोट भी नहीं आई। इसके बाद लोगों ने उठाकर प्लेटफॉर्म पर चढ़ाया और उसके बाद जीआरपी की मदद से घोड़ाडोंगरी अस्पताल भिजवाया है।