Betul Today News: बड़ी कार्यवाही, स्ट्रीट लाइट के नाम पर बड़ी धांधली उजागर, दो डीजीएम को चार्ज शीट, दो मैनेजर और दो असिस्टेंट मैनेजर सस्पेंड

Betul Today News:

Betul Today News: मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की ग्राम पंचायतों में हुए स्ट्रीट लाइट के कार्यों में बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितता और गुणवत्ताविहीन कार्यों का मामला उजागर हुआ है। इस मामले में जांच के बाद बिजली कंपनी ने तत्कालीन 2 उप महाप्रबंधकों (DGM) को आरोप पत्र जारी किया है। वहीं 2 प्रबंधकों (managers) और 2 सहायक प्रबंधकों (assistant managers) को निलंबित कर दिया है। मुख्यालय से हुई इस कार्यवाही से कंपनी में हड़कंप मचा हुआ है।

इस मामले की शिकायतें मिलने पर कंपनी द्वारा भोपाल मुख्यालय के 3 वरिष्ठ अधिकारियों से जांच कराई गई। जांच में कई धांधली होना पाया गया। इस पर कंपनी द्वारा तत्कालीन उप महाप्रबंधक (संचालन/संधारण) भगत सिंह कुशवाह एवं उप महाप्रबंधक (संचालन/संधारण) भूपेंद्रसिंह बघेल को आरोप पत्र जारी किया है।

इसके साथ ही घोड़ाडोंगरी वितरण केंद्र के तत्कालीन प्रबंधक (पूर्व में सहायक यंत्री पदनाम) संदीप मेश्राम और सहायक प्रबंधक (पूर्व में उपयंत्री पदनाम) उमेश सरयाम तथा खेड़ी वितरण केंद्र के तत्कालीन प्रबंधक छतरसिंह भवेदी और सहायक प्रबंधक विवेक सिंह उइके को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। कंपनी की इस कार्यवाही से हड़कंप मचा हुआ है।

सामग्री का नहीं कराया था अनुमोदन

कंपनी द्वारा कराई गई जांच में पाया गया था कि स्ट्रीट लाइट के कार्य का प्रारंभ करने के पूर्व निर्माण कार्य में प्रयुक्त की जाने वाली प्रत्येक सामग्री को विभाग के सुपरविजन अधिकारी से अनुमोदित नहीं कराया गया था। सुपरविजन चार्ज लिए जाने के बावजूद अधिकांश कार्यों का सुपरविजन और इंस्पेक्शन संबंधित वितरण केंद्र के प्रभारियों द्वारा नहीं किया गया है।

बगैर निरीक्षण के किया गया सत्यापन

जांच में पाया गया कि घोड़ाडोंगरी और खेड़ी के सहायक प्रबंधकों उमेश सरयाम और विवेक सिंह उइके द्वारा लाइन निर्माण कार्य का सुपरविजन या इंस्पेक्शन किए गए बगैर प्राक्कलन के प्रावधानों के आधार पर लापरवाहीपूर्वक ग्राम पंचायतों की एमपी में प्रविष्ठि और सत्यापन किया गया है।

जे-हुक क्लैंप की अतिरिक्त वसूली

एबी केबल टेंशन क्लैंप, सस्पेंशन क्लैंप एवं एलटी डेड एंड क्लैंप तीनों का प्रावधान काम के लिए किया गया है जबकि सामान्यत: किसी खंभे में इनमें से एक ही क्लैंप लगता है। जे-हुक क्लैंप का अलग से प्रावधान किया गया है जबकि जे-हुक क्लैंप की कीमत उक्त क्लैंपों की कीमत में शामिल हैं। एबी केबल की साइज एवं क्षमता को लेकर एकरूपता नहीं रखी गई।

जरुरत नहीं होने के बावजूद प्रावधान

एक कोर एबी केबल में एक खंभे में मात्र 1 एवं तीन कोर एबी केबल में एक खंभे में मात्र 3 नग पियर्सिंग कनेक्टर आवश्यक है जबकि प्राक्कलन में हर खंभे में 5 कनेक्टर के प्रावधान किए गए हैं। शैकल हार्डवेयर व न्यूटर क्लैंप की आवश्यकता न होने के बावजूद प्रत्येक खंभे में इनके प्रावधान किए गए हैं।

बगैर परमिशन हो जाती लाइन चालू

5 प्रतिशत सुपरविजन योजनांतर्गत विभिन्न संभागों से जारी किए गए कार्यादेशों की भाषा व मसौदे में एकरूपता नहीं है। सुपरविजन एजेंसी से न तो कार्य प्रारंभ करने के पूर्व लाइन निर्माण कार्य में प्रयुक्त की जाने वाली सामग्री अनुमोदित कराई जाती है और न ही कार्य के दौरान लाइन या निर्माण कार्य की गुणवत्ता चेक कराई जाती है।

सुपरविजन एजेंसी की चार्जिंग परमिशन के बगैर स्थानीय लाइन स्टाफ और वितरण केंद्र प्रभारियों द्वारा गुणवत्ताविहीन लाइन व निर्माण कार्यों को टेक ओवर करके लाइन चालू करा दी जाती है।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker