Cyber Alert : सावधान! यदि आपको भी दिया जा रहा मातृत्व योजना के पैसे जमा करने का झांसा तो हो जाएं सचेत, ना करें एप डाउनलोड

Cyber Alert : सावधान! यदि आपको भी दिया जा रहा मातृत्व योजना के पैसे जमा करने का झांसा तो हो जाएं सचेत, ना करें एप डाउनलोड

Cyber Alert : यदि आपके पास भी अनजान नंबर से कॉल आ रहे हैं और आपके बैंक खाते में मातृत्व योजना (Pradhan Mantri Matru Vandana Yojana) की राशि डालने का सब्जबाग दिखाकर कोई एप डाउनलोड करने को कहा जा रहा है वो तुरंत सावधान होने की जरूरत है। दरअसल वह फोन कॉल किसी सरकारी विभाग से नहीं आ रहा है बल्कि कुछ शातिर ठग ऐसा कर रहे हैं। उनके अनुसार एप डाउनलोड करने के बाद आपके खाते में किसी योजना के पैसे तो नहीं आएंगे, अलबत्ता आपका बैंक खाता जरूर साफ हो जाएगा।

दरअसल साइबर फ्रॉड करने वाले शातिर ठगों ने अब ठगी का यह नया तरीका इजाद किया है। मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के मुलताई क्षेत्र में कई महिलाएं इस तरह ठगी का शिकार हो चुकी हैं। मुलताई क्षेत्र में कुछ दिनों से गर्भवती महिलाओं के बैंक खाते में राशि जमा करने का कहकर बैंक संबंधी जानकारी कुछ शातिर ठगों द्वारा ले ली गई। उसके बाद गर्भवती महिलाओं या उनके पति के बैंक खाते से राशि निकाल ली गई। बीते कुछ समय से यह सायबर फ्राड धड़ल्ले से हो रहा है। मुलताई क्षेत्र में ऐसे करीब दस धोखाधड़ी के मामले सामने आए है। जिसकी सूचना पीड़ितों द्वारा बीएमओ और पुलिस थाने में दी गई है।

मुलताई बीएमओ डॉ. अभिनव शुक्ला ने बताया कि बुधवार को उनके पास ग्राम चंदोराखुर्द के पीड़ित आए थे। उन्होंने बताया कि साइबर फ्रॉड करने वाले कुछ लोग गर्भवती महिलाओं के खाते में मातृत्व योजना की राशि डालने के नाम पर महिलाओं को चूना लगा रहे हैं। उनके द्वारा ग्राम की गर्भवती महिलाओं की जानकारी आशा कार्यकर्ता से मोबाइल पर ली जाती है। जिसके बाद उन्हें फोन कर ऐप डाउनलोड करा कर बैंक खाते में जमा राशि निकाल ली जाती है।

ग्राम चंदोराखुर्द की आशा कार्यकर्ता से सायबर फ्रॉड (cyber fraud) करने वाले लोगों द्वारा फोन लगाकर ग्राम की गर्भवती महिलाओं की जानकारी ली गई। जिसके बाद उन्होंने नेहा महेश पवार निवासी चंदोराखुर्द को फोन लगाकर राशि जमा करने के लिए मोबाइल पर एप डाउनलोड करने को कहा। नेहा ने कहा कि उसे मोबाइल चलाना नहीं आता है और उसने पति का मोबाइल नंबर दिया। उसके पति आर्मी में सेवारत हैं। सायबर फ्राड करने वाले ने उसके पति से चर्चा की और थोड़ी देर में महेश पवार के बैंक खाते में जमा 80 हजार रुपए गायब हो गए। बीएमओ डाॅ.शुक्ला ने बताया क्षेत्र में करीब दस महिलाएं ठगी का शिकार हो चुकी हैं। उन्होंने आशा कार्यकर्ताओं एवं महिलाओं से अंजान नंबर से मोबाइल काल आने पर किसी भी तरह की जानकारी नहीं देने की अपील की है।

पुलिस ने भी किया इस बारे में सचेत (Cyber Alert)

इस मामले को लेकर पुलिस द्वारा जारी प्रेस नोट में बताया गया कि वर्तमान में साइबर फ्राड (cyber fraud) का नया तरीका जारी है। फ्रॉड करने वाले आशा कार्यकर्ताओं और गर्भवती महिलाओं को फोन कांफ्रेंस में लेकर एनिडेस्क एप डाउनलोड करवाते है, जो कि रिपोर्ट एक्सेस एप्लिकेशन है। जिससे फ्रॉड करने वाले आपके खाते से राशि आहरण कर लेते हैं। पुलिस ने अपील की है कि सावधान रहें। किसी का भी फोन आने पर कोई एप्लिकेशन डाउनलोड ना करें। किसी भी अनजान व्यक्ति के द्वारा फोन आने पर अपनी व्यक्तिगत जानकारी खाता नंबर, ईमेल आईडी, फोन पे नंबर, ओटीपी किसी भी व्यक्ति से शेयर ना करें।

क्या होता है एनीडेस्क एप (anydesk app)

एनीडेस्क एप एक सॉफ्टवेयर है। यह आपके मोबाइल या कंप्यूटर पर काम करता है। इसके डाउनलोड करने के बाद एक कोड शेयर करते ही आपके मोबाइल या कंप्यूटर को कहीं भी बैठा व्यक्ति बिलकुल वैसे ही ऑपरेट कर लेता है, जैसे आप कर रहे होते हैं। बस उसे कंट्रोलिंग मिलते ही वह आपके बैंक में जमा सारे रुपए उड़ा देता है।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker