History Of Indian Railways: 170 साल पहले चली थी भारत की पहली पैसेंजर ट्रेन, उस वक्‍त ऐसा था नजारा

History Of Indian Railways: 170 साल पहले चली थी भारत की पहली पैसेंजर ट्रेन, उस वक्‍त ऐसा था नजारा

History Of Indian Railways: क्या आप जानते है कि देश की पहली पैसेंजर ट्रेन कब चली थी और उसमें कितने यात्री सवार हुए थे। आज हम आपको भारत में चलाई गई पहली पैसेंजर ट्रेन के बारे में बता रहे है। इस पैसेंजर ट्रेन को आज से करीब 170 साल पहले 1853 में चलाया गया था, तब वहां किस तरह का नजारा था और ट्रेन किस तरह दिखती थीं।

भारत में दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क में से एक है। भारतीय रेल में रोजाना लाखों लोग सफर करते हैं। रेलवे के कई किस्‍से ऐसे है, जिनके बारे में शायद ही आपको पता हो। भारत में कनेक्टिविटी की शुरुआत कहां से शुरू हुई और किसने की। यह जानना आपके लिए बेहद जरूरी है. भारतीय रेलवे (Indian Railways) टूरिस्ट के लिए सफर करने का एक बहुत ही बेहतरीन और आसान जरिया है। क्या आपको मालूम है कि भारतीय रेलवे में 170 वर्ष पुराना इतिहास क्या है, और क्यों अधिकांश लोग आज भी ट्रेवेल के इस सस्ते साधन का प्रयोग करते हैं। इतने सालों बाद भी लोगों में रेलवे के प्रति विश्वास है।

सर आर्थर कॉटन को दिया जाता है पहली ट्रैन का श्रेय

भारत में पहली ट्रेन रेड हिल रेलवे (Red Hill Railway) थी, जो 1837 में रेड हिल्स से चिंताद्रिपेट पुल तक चली थी। सर आर्थर कॉटन को ट्रेन बनाने का श्रेय दिया जाता है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से ग्रेनाइट के परिवहन के लिए किया जाता था।

History Of Indian Railways: India's first passenger train ran 170 years ago, at that time it was like this

पहली बार पैसेंजर ट्रेन कब शुरू हुई थी ?

भारतीय रेलवे (Indian Railway) के पीछे का इतिहास जानने के लिए आपको सबसे पहले यह जानने में रुचि रखनी चाहिए कि भारत में पहली बार पैसेंजर ट्रेन कब शुरू हुई थी। आपको बता दें कि भारत की पहली पैसेंजर ट्रेन 170 साल पहले 16 अप्रैल 1853 को शुरू हुई थी। इस ट्रेन में कुल 400 यात्री सवार हुए थे और पैसेंजर ट्रेन ने मुंबई से थाणे तक का सफर तय किया था। इसमें रोचक बात तो यह है कि इस दिन को पब्लिक हॉलीडे घोषित किया गया है। ​​​​​​

Indian Railways History : भारत का पहला रेलवे स्टेशन कौन सा था ?

भारत का पहला रेलवे स्टेशन मुंबई में स्थित बोरीबंदर था। भारत की पहली पैसेंजर ट्रेन 1853 में बोरीबंदर से ठाणे तक चली थी। इसे ग्रेट इंडियन पेनिनसुलर रेलवे (Great Indian Peninsular Railway) द्वारा बनाया गया था। बाद में 1888 में रानी विक्टोरिया के नाम पर इस स्टेशन को विक्टोरिया टर्मिनस के रूप में फिर से बनाया गया। सोशल मीडिया पर यह जानकारी आपको आसानी से नहीं मिल सकती।

History Of Indian Railways: India's first passenger train ran 170 years ago, at that time it was like this

कैसे हुआ भारतीय रेलवे का विकास ?

भारतीय रेलवे की पहली पैसंजर ट्रैन कब शुरू हुई और कहा चली ये तो अब आप जान ही चुके होंगे। भारतीय रेलवेज का विकास समय के साथ साथ आगे बढ़ता गया अब भारत में ट्रैन से हर कोई सफर कर रहा हैं। समय के साथ-साथ भारतीय रेल में काफी ज्यादा बदलाओं हुए देश के प्रत्येक हिस्से में आज ट्रैन दौड़ रही है अब हर व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान जाने के लिए ट्रैन में सफर कर रहा है।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker