Betul Samachar : आठनेर वन परिक्षेत्र रेंज के जंगलों में फिर सागौन माफिया सक्रिय, 58 सागौन चिरान के साथ आरोपी गिरफ्तार

▪️ निखिल सोनी, आठनेर

बैतूल जिले की आठनेर रेंज के मोरूठाना पचुमरी में वन विभाग ने 58 नग सागौन चिरान के साथ आरोपी को गिरफ्तार किया है। इससे जाहिर है कि इस रेंज में लगातार माफियाओं का दखल बढ़ता जा रहा है। यह स्थिति वन विभाग के लिए चिंता का कारण बनती जा रही है।

बताया जाता है कि इस क्षेत्र में लगातार महाराष्ट्र प्रांत के मोर्शी, अंबाडा, चांदूरबाजार एवं अन्य ग्रामों में मध्य ्रदेश क्षेत्र के वन विभाग की सागौन लकड़ी से बने फर्नीचर का कारोबार जमकर चल रहा है। विभाग के सूत्रों की मानें तो वन विभाग के कुछ कर्मचारी भी इसमें शामिल हो सकते हैं। हालांकि वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में लगातार चोरी हो रही सागौन की लकड़ी कटाई पर अंकुश लगाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। जंगल में गश्ती बढ़ा दी गई है। इसके बावजूद माफिया पर पूरी तरह से अंकुश नहीं लग पाया है।

स्थानीय लोगों की माने तो महाराष्ट्र के माफिया मध्य प्रदेश के जंगलों में घुसकर अवैध रूप से सागौन की लकड़ी की कटाई कर फर्नीचर का कारोबार करने का काम करते आ रहे हैं। इन पर अंकुश लगाने के लिए अभी तक कोई बड़ा प्रयास नहीं किया गया है। स्थानीय स्तर के वन विभाग के कर्मचारियों की भी इसमें भूमिका संदिग्ध जैसी दिखने लगी है। मोरुठाना, रजापुर, कालापखान क्षेत्र में लगातार बढ़ रही लकड़ी चोरी की घटना इसका जीता जागता उदाहरण है। यहां पर वर्षों से जमे वन विभाग के अधिकारियों की सुस्त कार्यप्रणाली चर्चा का विषय बनी है।

उल्लेखनीय है कि डीएफओ विजयानंतम टीआर को मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात लगभग 1 बजे मुखबीर से सूचना प्राप्त हुई थी। इसके आधार पर उन्होंने कर्मचारियों की टीम गठित कर ग्राम पचुमरी में दबीश दिलवाई थी। वहां सुबह 5 बजे आरोपी निवासी मोरूढाना को 58 नग सागौन चिरान 0.559 घनमीटर के साथ मौका स्थल से गिरफ्त में लिया गया था। सागौन चिरान जप्त कर नियमानुसार पीओआर पंजीबद्ध किया गया है।

वन परिक्षेत्र आठनेर के मोरूठाना पचुमरी में गश्ती दल ने सागौन की 50 नग चिरान जब्त कर आरोपी को गिरफ्तार किया है। फिलहाल मामले में जांच की जा रही है।

अमित पवार, प्रभारी रेंजर, आठनेर-मोर्शी रेंज

MP News: एमपी में सरपंचों की बल्ले-बल्ले! सरकार ने बढ़ा़या मानदेय, पंचायतें दे सकेंगी 25 लाख रुपये तक की प्रशासकीय मंजूरी 

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker