Good News: यहां गन्ने की खेती पर फ्री मिल रही कंपोस्ट खाद, बोनस में शक्कर और किसानों की बेटियों को पढ़ाई के लिए 61 हजार रुपए तक की प्रोत्साहन राशि

किसानों की जमीन की उर्वरा शक्ति बनाए रखने दी जा रही कंपोस्ट खाद, अधिक से अधिक उपयोग करने का आव्हान

Free Compost Fertilizer: वैसे तो अपने खेतों में फसल की बुआई कर प्राप्त उपज की बिक्री करके अपनी आजीविका चलाना किसानों का रूटीन होता है। लेकिन, इसी रूटीन के बीच फ्री खाद मिले, बोनस के रूप में इतनी शक्कर मिल जाए कि बाजार से लेने की जरूरत ही न हो और सबसे बड़ी बात बेटी की उच्च शिक्षा के लिए 61 हजार रुपए तक की प्रोत्साहन राशि भी मिल जाए तो…?

यह भले ही अकल्पनीय लगे, लेकिन मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के सोहागपुर गांव में संचालित श्रीजी शुगर एण्ड पावर प्राइवेट लिमिटेड (शुगर मिल) यह कार्य हकीकत में कर रही है। मिल द्वारा किसानों के हित में कई ऐसी योजनाएं चलाई जा रही हैं, जिनसे किसानों को खासा लाभ प्राप्त हो रहा है।

मिल के डायरेक्टर अभिषेक गोयल बताते हैं कि इस साल भी किसान भाइयों के लिए कई ऐसी योजनाएं चलाई जा रही हैं जिनसे किसानों के साथ ही उनके परिवार को भी बेहद सहूलियत होगी। गन्ना बुवाई व गन्ना कटाई का नया सत्र (2022-23) शुरू हो रहा है।

पिछले वर्षों में बारिश अच्छी हुई थी और इस वर्ष भी अच्छी बारिश हो गई है। ऐसे में जो किसान शरदकालीन गन्ना बुवाई करना चाहते हैं और जो किसान खोडवा काटने के बाद तीसरे साल से खोड़वा को चौथे साल में रखना चाहते हैं उन किसानों के लिए श्री जी शुगर मिल द्वारा आकर्षक सुविधाएँ दी जा रही हैं।

इस गन्ने की बुआई पर मिलेगी फ्री खाद | free compost fertilizer

उन्होंने बताया कि इस सत्र की शरदकालीन बुआई में गन्ना प्रजाति CO-86032 की बुआई पर ही यह स्कीम लागू होगी। इसमें एक टन कम्पोस्ट खाद प्रति एकड़ फ्री दी जाएगी। इसी तरह तिरी गन्ना में तीसरे साल के खोड़वा से चौथे साल के खोड़वे में रखने पर कृषकों को कम्पोस्ट खाद प्रति एकड़ 1 टन फ्री दी जायेगी।

किसान के उसी प्लाट की पत्ती भी बारीक फ्री में की जायेगी। इसके अलावा 25 किलो शक्कर प्रति एकड़ बोनस के रूप में या प्रति एकड़ 2 स्प्रे 50% अनुदान पर किया जाएगा। यह सुविधाएं जो भी किसान लेना चाहते हैं, उनको एक अनुबंध पत्र भरना होगा जो फील्ड सुपरवाईजर के माध्यम से प्राप्त होगा।

बालिकाओं को मिलेगी प्रोत्साहन राशि

मिल प्रबंधन द्वारा गन्ना वाले किसान भाइयों की बेटियों की पढ़ाई-लिखाई आसान बनाने के लिए प्रोत्साहन राशि भी प्रदान की जाएगी। इसमें 10वीं व 12वीं बोर्ड में सत्र 2021-2022 में 10 वी बोर्ड में 90% और 12 वी बोर्ड में 85% अंक लाने पर 31000 रूपये की राशि प्रदान की जाएगी।

इसके अलावा 12 वीं बोर्ड के बाद एमबीबीएस (MBBS) में एडमिशन लेने पर 61000 रूपये प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। इसके लिए मार्कशीट जमा करने की अंतिम दिनांक 15 दिसंबर 2022 रखी गई है। किसान भाई अपनी बालिकाओं की मार्कशीट अपने फिल्ड सुपरवाईजर के पास या फैक्ट्री में गन्ना विभाग में जमा करा सकते हैं। अंतिम तिथि के बाद मार्कशीट जमा नहीं की जायेगी।

कंपोस्ट खाद पर इसलिए दिया जा रहा जोर | free compost fertilizer

शुगर मिल के गन्ना प्रबंधक अनुज तोमर बताते हैं कि रासायनिक खाद के बेतहाशा उपयोग से हमारे मध्यप्रदेश के ही दो-तीन जिलों में खेतों की उर्वरा शक्ति बेहद घट चुकी हैं। यहां भी वह स्थिति ना बने, इसलिए मिल प्रबंधन द्वारा कंपोस्ट खाद मुहैया कराने की पहल की गई है।

कंपोस्ट खाद के उपयोग से जमीन में बैक्टीरिया (उपयुक्त लाभदायक जीवाणुओं) की पर्याप्त संख्या बनी रहती है, जमीन की जल धारण क्षमता बनी रहती है, जमीन की कठोरता कम होकर वह भुरभुरी होती है। सबसे बड़ी बात है कि इससे रसायनिक खाद के खर्च में 25 फीसदी की बचत होती है। उन्होंने किसान भाइयों से आग्रह किया कि वे कंपोस्ट खाद का अधिक से अधिक उपयोग करें और अपनी जमीन की उर्वरा शक्ति को बचाए रखें।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker