Rabi Season Crops : नवंबर में किसान जरुर लगाए ये फसलें, कृषि वैज्ञानिक ने दी सलाह, होगा बंपर उत्‍पादन

Rabi Season Crops :
Rabi Season Crops :

Rabi Season Crops: रबी सीजन शुरू हो चुका है और किसानों को 15 नवंबर तक कुछ प्रमुख फसलों की बुवाई करने की सलाह कृषि वैज्ञानिकों ने दी है। कृषि सलहाकारों की मानें तो 15 अक्टूबर से लेकर 15 नवंबर का समय फसलों की अगेती बुवाई के लिए बेहद अनुकूल माना जाता है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार रबी सीजन में इन फसलों की बुवाई की जाती है तो किसानों को अच्छा मुनाफा हो सकता है। आइए जानते हैं इन फसलाें के बारें में…

रबी सीजन में उगाई जानी वाली फसलें

रबी सीजन हल्की गुलाबी ठंड में शुरू हो जाता है, इस सीजन में मुख्त: गेहूं, जौ, सरसों, आलू, मटर चना आदि की खेती की जाती है। इसके साथ ही बागवानी की फसलों में आलू, मूली, गाजर, टमाटर, भिंडी, सेम, लौकी, गोभी, पालक, मैथी, करेला, शलगम आदि की खेती की जाती है।

Also Read: Samsung Galaxy Z Flip 3: सैमसंग के इस शानदार phone पर मिल रहा 25,000 हजार का डिस्काउंट, कैमरा, फीचर्स और बैैटरी भी है दमदार

गेहूं की खेती है सबसे प्रमुख 

रबी सीजन की मुख्य फसल गेहूं को कहा जाता है। जो देश के अधिकतर हिस्मों में बड़े पैमाने में की जाती है। पंजाब, हरियाणा, मध्यप्रदेश व उत्तर प्रदेश को गेहूं के उत्पादन का हब माना जाता है। यहां पर उत्पादित गेहूं से देश की खाद्य आपूर्ती तो की ही जाती है साथ ही निर्यात भी किया जाता है। गेहूं की अगेती किस्मों की बुवाई के लिए अनुकूल समय 15 अक्टूबर से लेकर 15 नवंबर है।

नीचे दी लिंक पर देखें गेहूं की उन्‍नत किस्‍में

चना की खेती भी है सही    

चना खपत भारत समेत अन्य देशों में बड़े पैमाने पर होती है। रबी सीजन में दलहनी फसलों में चने को मुख्य माना जाता है। भारत के यूपी, बिहार महाराष्ट्र, राजस्थान, कर्नाटक और मध्य प्रदेश चना उत्पादन के बड़े राज्य माने जाते हैं। चने की बुवाई के लिए सही समय अक्टूबर-नवंबर का महीना उपयुक्त माना जाता है, क्योंकि चने की खेती के लिए सामान्य तापमान की आवश्यकता होती है।

नीचे दी लिंक पर देखें चने की उन्‍नत किस्‍में

Chane ki unnat kheti: चने की यह टॉप किस्‍में, देती हैं छप्पर फाड़ उत्‍पादन, बस जान लें खेती का तरीका

लाभ की है सरसों की खेती

रबी सीजन में सरसों की खेती को मुख्य दलहनी फसल में से एक माना जाता है। सरसों की खपत देश-विदेशों में बड़े पैमाने पर होती है। मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान व महाराष्ट्र को सरसों की खेती का हब माना जाता है। पाम तेल व सोयाबीन के बाद सरसों का उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाता है। सरसों की खेती के साथ अधिकतर किसान मधुमक्खी पालन भी करते हैं, जिससे किसानों की आय में बढ़ोतरी भी होती है।

नीचे दी लिंक पर देखें सरसो की उन्‍नत किस्‍में

sarso ki top variety: ये ही है सही समय, खेत में लगा दे डबल मुनाफा देने वाली सरसों की ये किस्‍म, 100 दिन में हो जाती है तैैयार, तेल भी निकलता है दोगुना

आलू की खेती

आलू की खेती मुख्यत: रबी सीजन में की जाती है। आलू में सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं, तभी तो इसे सब्जियों का राजा भी कहा जाता है।आलू की मांग पूरे साल ही रहती है। हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, और मध्य प्रदेश में आलू की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है।

News Source: Krishijagran.com

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker