Dushyant Sangrahalaya Samman 2022 : दुष्यन्त संग्रहालय ने की सम्मानों की घोषणा, चौदह साहित्यकारों को मिलेगा स्मृति सम्मान, देखें सूची

Announcement of honors by Dushyant Museum, fourteen litterateurs will get memory, see list

Dushyant Sangrahalaya Samman 2022 : वर्ष 2022 का दुष्यन्त कुमार राष्ट्रीय अलंकरण देश के प्रख्यात साहित्यकार डॉ. धनञ्जय वर्मा को प्रदान किया जायेगा। इसके साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर दिया जाने वाला सुदीर्घ साधना सम्मान प्रसिद्ध गीतकार नरेंद्र दीपक को और आंचलिक भाषा सम्मान शाजापुर के मालवी साहित्यकार बंशीधर बन्धु को दिया जाएगा।

यह घोषणा करते हुए दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय भोपाल के अध्यक्ष रामराव वामनकर ने बताया कि राष्ट्रीय अलंकरणों के साथ ही चौदह स्मृति सम्मान भी प्रदान किये जाते हैं, जो संग्रहालय के दिवंगत पदाधिकारियों की स्मृति में स्थापित किये गए हैं। इस अवसर पर संरक्षक मनोज सिंह मीक, आलोक त्यागी, उपाध्यक्ष विपिन बिहारी वाजपेयी सहित वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार उपस्थत थे।

दुष्यन्त कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय द्वारा स्मृति सम्मानों के लिए चयनित विभूतियों में ‘कमलेश्वर सम्मान’ के लिए मलय जैन, ‘कन्हैयालाल नन्दन सम्मान’ के लिए संजय पठाडे ‘शेष’ (बैतूल), ‘बालकवि बैरागी सम्मान’ के लिए ऋषि श्रृंगारी, ‘विट्ठलभाई पटेल सम्मान’ के लिए रामबाबू शर्मा, ‘राजेन्द्र जोशी सम्मान’ के लिए मनोज द्विवेदी, ‘सुषमा तिवारी सम्मान’ के लिए डॉ. अनिता सिंह चौहान, ‘ब्रजभूषण शर्मा सम्मान’ के लिए आनन्द सबधाणी, ‘अखिलेश जैन सम्मान’ के लिए पुनीत कुमार मिश्र (बड़ोदा), ‘राजेश्वरी दुष्यन्त त्यागी सम्मान’ के लिए डॉ. रेखा कस्तवार, ‘डॉ. आर.एस.तिवारी सम्मान’ के लिए सुदर्शन सोनी, ‘अंशलाल पन्द्रे सम्मान’ के लिए डॉ. क्षमा पाण्डेय, ‘डॉ. बाबूराव गुजरे सम्मान’ के लिए अनिल खरे, ‘मनोहर पटेरिया ‘मधुर’ सम्मान’ के लिए चित्रेन्द्र स्वरूप राजन को एवं ‘विजय शिरढोणकर सम्मान’ के लिए ‘वनमाली कथा’ (प्रधान संपादक, मुकेश वर्मा) पत्रिका को चुना गया है।

संग्रहालय के निदेशक राजुरकर राज ने बताया कि ‘स्मृति सम्मान समारोह’ 26 नवम्बर को एवं राष्ट्रीय अलंकरण 24 दिसंबर को आयोजित किया जायेगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.