Tamato Farming: गेहूं छोड़ इस सीजन करें टमाटर की खेती, होगी छप्‍पड़ फाड़ कमाई, ये किस्‍में देगी बंपर उत्‍पादन

Tamato Farming: Tomato farming this season, leaving wheat, will earn a lot, these varieties will give bumper production

Amazing Greenhouse Tomatoes Farming - Greenhouse Modern Agriculture  Technology - Betulupdate |Tamato Farming: गेहूं छोड़ इस सीजन करें टमाटर की खेती, होगी छप्‍पड़फाड़ कमाई, ये किस्‍में देगी बंपर उत्‍पादन

Tamato Farming: भारत में रबी सीजन में सबसे ज्‍यादा गेहूं की फसल लगाई जाती है, लेकिन कई बार मौसम की मार से फसलाें को नुकसान होता है और किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है। इस बार आप गेहूं के साथ टमाटर की खेती करके भी अच्‍छा मुनाफा (Good benefits of tomato cultivation) कमा सकते है। आज हम आपको टमाटर की कुछ किस्‍मों की जानकारी दे रहे हैं, जिसका अच्‍छा उत्‍पादन होता है। कुछ किसान इन किस्‍मों को लगाकर 15 लाख रूपए तक कमा रहे हैं। आईए जानते है इन किस्‍मों के बारे में ….

टमाटर की उन्नत किस्में (improved varieties of tomatoes)

कई किसान टमाटर की खेती तो करते है, लेकिन उन्‍हें अच्‍छी पैदावार नहीं मिल पाती है। यदि वह सही और उन्‍नत किस्‍मों के टमाटर की खेती करें तो ये उन्‍हें लाभ पहुंचाएगा। टमाटर की खेती से अच्छी पैदावार प्राप्त करने के लिए किसानों को हमेशा उन्नत किस्मों का ही चयन करना चाहिए। इसके लिए आप टमाटर की देशी किस्मों (Indigenous varieties of tomatoes) को चुन सकते हैं। जैसे कि पूसा शीतल, पूसा-120, पूसा रूबी, पूसा गौरव, अर्का विकास, अर्का सौरभ और सोनाली आदि। इसके अलावा बाजार में टमाटर की हाइब्रिड किस्में (Hybrid varieties of tomatoes) भी मौजूद है। जैसे कि पूसा हाइब्रिड-2, पूसा हाईब्रिड-4, रश्मि और अविनाश-2 आदि। 

Tomato Farming Information Guide | Tamato Farming: गेहूं छोड़ इस सीजन करें टमाटर की खेती, होगी छप्‍पड़फाड़ कमाई, ये किस्‍में देगी बंपर उत्‍पादन

टमाटर की खेती का समय (tomato cultivation time)

जो किसान पहली बार टमाटर की खेती कर रहे है उनके लिए यह सबसे चुनौती भरा होता है कि वे टमाटर की खेती कैसे करें। हम आपको बताते है कि किस तरह आप टमाटर की खेती कर सकते है। किसान टमाटर की खेती वैसे तो किसी भी तरह की मिट्टी में कर सकते हैं लेकिन कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार, इसकी खेती के लिए रेतीली दोमट, चिकनी मिट्टी, लाल और काली मिट्टी सबसे उपयुक्त मानी जाती है। लेकिन किसान इस बात का विशेष तौर पर ध्यान रखें कि खेती में पानी की उचित निकासी की व्यवस्था बनी रहनी चाहिए। भारत में टमाटर की खेती साल में दो बार की जा सकती है। किसान पहली खेती जुलाई-अगस्त में करना शुरू करें जो फरवरी-मार्च तक समाप्त हो जाएगी। वहीं दूसरी खेती नवंबर-दिसंबर से शुरू होकर जून-जुलाई तक समाप्त हो जाती है।

एक हेक्टेयर में कैसे करें टमाटर की खेती (How to cultivate tomato in one hectare)

किसान भाई यदि एक हेक्‍टेयर में टमाटर की खेती करना चाहते है, तो इसके लिए उन्‍हें लगभग 500 ग्राम बीज की आवश्यकता पड़ेगी। ध्यान रहे कि इसमें हाइब्रिड बीज 250-300 ग्राम तक होना चाहिए। इसके बाद आपको ध्‍यान से खेत में बीजों से नर्सरी को अच्छे से तैयार करना है। इससे लगभग एक महीने में ही टमाटर के पौधे खेतों में लगाने के लायक बन जाते हैं।

How to Grow Tomatoes - Tomato Farming | Tomato Cultivation - Complete  Informations Tamato Farming: गेहूं छोड़ इस सीजन करें टमाटर की खेती, होगी छप्‍पड़फाड़ कमाई, ये किस्‍में देगी बंपर उत्‍पादन

सिंचाई का भी रखें ध्‍यान

जब टमाटर के पौधे खेत में लग जाए। इसके बाद फिर आपको खेत की सिंचाई पर ध्यान देना है। अगर आप इसकी खेती सर्दी के मौसम में कर रहे हैं, तो आपको 10-15 दिनों के अंतराल पर खेत की सिंचाई करना चाहिए और यदि गर्मी के मौसम में खेती कर रहे हैं तो 6-7 दिनों के अंतराल के बीच खेत की सिंचाई करनी होगी।

ये तापमान पर होता है अच्‍छा उत्‍पादन

अगर हम टमाटर की खेती के लिए तापमान की बात करें तो इसके लिए गर्म जलवायु वाला क्षेत्र अच्छा माना जाता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि इसे किसान ठंड के मौसम में नहीं कर सकते हैं। ठंड के मौसम में भी इसकी खेती से लाखों का मुनाफा कमा सकते हैं। फसल से अच्छा उत्पादन प्राप्त करने के लिए तापमान करीब 21-23 डिग्री सेल्सियस तक अच्छा रहता है।

What is Tomato Farming? - Cupit Food - Tamato Farming: गेहूं छोड़ इस सीजन करें टमाटर की खेती, होगी छप्‍पड़फाड़ कमाई, ये किस्‍में देगी बंपर उत्‍पादन

इन उर्वरकों का कर सकते इस्तेमाल (Fertilizer use)

टमाटर की खेती में किसान को गोबर की खाद, नत्रजन, फॉस्फोरस, पोटाश और बोरेक्स का इस्तेमाल करना चाहिए। ताकि फसल सुरक्षित रह सके।

प्रमुख कीट और रोग (Major pests and diseases)

टमाटर की खेती में रोग (Diseases in tomato cultivation) लगने की संभावना सबसे अधिक होती है। इसकी खेती में प्रमुख कीट हरा तैला, सफेद मक्खी, फल छेदक कीट एंव तम्बाकू की इल्ली जैसे दिखाई देते हैं। इसके अलावा इसमें प्रमुख रोग आर्द्र गलन या डैम्पिंग ऑफ, झुलसा या ब्लाइट, फल संडन भी लगते हैं। इन सब कीट व रोगों के बाचाव के लिए किसानों को कृषि विज्ञानों के अनुसार ही फसल का उपचार करना चाहिए।

खरपतवार नियंत्रण (weed control)

टमाटर की खेती में खरपतवार नियंत्रण का भी किसान ध्यान रखें। इसके लिए वह खेत में आवश्यकता के अनुसार ही निराई-गुड़ाई करें। इसके अलावा खेत तैयार करते समय फ्लूक्लोरेलिन (बासालिन) या रोपाई के 7 दिन के अंदर पेन्डीमिथेलिन का छिड़काव अच्छे से करना चाहिए।

Success story- Farmer becomes Millionaire from tomato cultivation | टमाटर  की खेती से लखपति बन गया किसान, आप भी अपना सकते हैं ये तरीका | Tamato Farming: गेहूं छोड़ इस सीजन करें टमाटर की खेती, होगी छप्‍पड़फाड़ कमाई, ये किस्‍में देगी बंपर उत्‍पादन

एक हेक्‍टेयर से होगी लाखाें की कमाई

किसान अच्‍छी तरह खेती करने में सफल हो जाते है तो ऊपर बताई गई टमाटर की किस्‍मों से महज एक हेक्‍टेयर पर ही वे लाखाें रूपए की कमाई कर सकते है। टमाटर की अच्छी खेती से किसान 1 हेक्टेयर खेत से लगभग 800-1200 क्विंटल तक पैदावार प्राप्त कर सकते हैं। इसकी उन्नत खेती से किसान कम लागत में अधिक मुनाफा कमा लेते हैं। अगर आप टमाटर की खेती 1 हेक्टेयर के खेत में करते हैं, तो किसान इसे 15 लाख तक की कमाई सरलता से कर सकते हैं।

News Source: Krishijagran

Get real time updates directly on you device, subscribe now.