DAP, NPK, UERA UPDATE: इस तरह से करें डीएपी, एनपीके और यूरिया का उपयोग, लहलहा उठेगी फसल और मिलेगी बंपर पैदावार

DAP, NPK, UERA UPDATE, Use DAP, NPK and Urea in this way, the crop will rise and you will get bumper yield

DAP, NPK, UERA UPDATE

DAP, NPK, UERA UPDATE: फसलों के लिए खाद का उपयोग उतना ही जरूरी है जितना हम इंसानों के लिए भोजन। कई बार जानकारी के अभाव में और कई बार अधिक उपज लेने के लोभ में किसान काफी अधिक खाद का उपयोग फसलों में कर लेते हैं। इसका लाभ की बजाय नुकसान ही उन्हें होता है। जिस तरह हम संतुलित भोजन करके स्वस्थ रह सकते हैं, उसी तरह फसलों को भी खाद की संतुलित मात्रा में ही जरूरत होती है। किसानों को खाद के इस्तेमाल (use of fertilizer) की जानकारी होना बहुत आवश्यक है। इसलिए आज हम आपके लिए DAP, NPK और Urea खाद की जानकारी लेकर आये हैं। खाद डालना कोई बच्चों का खेल नहीं है। फसलों में कम या अधिक खाद डालने से फसलों को हानि पहुंच सकती है। और नतीजतन इससे किसानों को नुकसान हो जाता है।

डी-अमोनियम फॉस्फेट उर्वरक (DAP)

वर्ष 2020-21 में 119.19 लाख टन की बिक्री के साथ डीएपी भारत में दूसरा सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला उर्वरक है। इस उर्वरक को बुआई के ठीक पहले या बुआई के समय पर दिया जाता है, क्योंकि इसमें फास्फोरस (Phosphorus) की मात्रा अधिक होती है, जो जड़ की स्थापना और विकास को निर्धारित करता है। यदि इसका इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो पौधे अपने सामान्य आकार तक नहीं बढ़ सकते हैं क्योंकि प्राकृतिक रूप में बढ़ने में बहुत अधिक समय लगता है। डीएपी में 46% फास्फोरस (P) और 18% नाइट्रोजन (N) होता है।

डीएपी का इस्तेमाल कैसे करें (How to use DAP)

आप हेक्टेयर के हिसाब से पौधों की संख्या के बराबर DAP उपयोग (Use of DAP Per Hectare) कर सकते हैं। उदाहरण के लिए 1 हेक्टेयर के लिए 100 किग्रा डीएपी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

एनपीके (NPK)

कुछ वैज्ञानिकों का ऐसा दावा है कि एनपीके उर्वरक डीएपी से बेहतर है, क्योंकि यह मिट्टी को अम्लीकृत नहीं करता है। फसलों के संतुलित विकास के लिए 6 मैक्रो पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है जिसमें नाइट्रोजन (एन), फास्फोरस (पी), पोटेशियम (के), कैल्शियम (ए), मैग्नीशियम (एमजी), सल्फर (एस) शामिल हैं। नाइट्रोजन उर्वरक में अमोनियम नाइट्रेट और अमोनियम सल्फेट शामिल हैं। पोटासिक उर्वरक में पोटेशियम नाइट्रेट और चिली सल्फेट शामिल हैं। फॉस्फेटिक उर्वरक में सुपर फॉस्फेट, ट्रिपल फॉस्फेट शामिल हैं। 4:2:1 का एनपीके अनुपात मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार करता है और फसलों की उपज में वृद्धि करता है। जिसके परिणामस्वरूप किसानों की आय में वृद्धि होती है।

एनपीके का इस्तेमाल कैसे करें (How to use NPK)

पौधों को 1 टन अनाज पैदा करने के लिए प्रति हेक्टेयर 15 से 20 किलोग्राम नाइट्रोजन लेने की आवश्यकता (Use of NPK Per Hectare)  होती है। इसका मतलब है कि एक टन अनाज पैदा करने के लिए दोगुना उर्वरक या 30 से 40 किलो एनपीके प्रति हेक्टेयर डालना होता है।

यूरिया उर्वरक (Urea Fertilizer)

यूरिया उर्वरक का मुख्य कार्य फसलों की वृद्धि को बढ़ावा देने के साथ नाइट्रोजन प्रदान करना है। यह पौधों को ताज़ा और जल्दी बढ़ने में मदद करता है। यूरिया का व्यापक रूप से कृषि क्षेत्र में उर्वरक के रूप में उपयोग किया जाता है। नाइट्रोजन सामग्री और कम उत्पादन लागत यूरिया उर्वरक की खासियत है। सभी प्रकार की फसलों और मिट्टी के लिए यूरिया बेस्ट फर्टिलाइजर में से एक है।

यूरिया उर्वरक का इस्तेमाल कैसे करें (How to use urea fertilizer)

यूरिया को उपयोग करने का एक फार्मूला होता है। यदि आपको अपने खेत के हिसाब से यूरिया का उपयोग करना है तो आप इसको अपना सकते हैं (उर्वरक की मात्रा किग्रा/हेक्टेयर = किग्रा/हेक्टेयर पोषक तत्व ÷ उर्वरक में% पोषक तत्व x 100)। वहीं एक अनुमान के मुताबिक यूरिया का प्रति एकड़ 200 पाउंड इस्तेमाल  (Use of Urea Per Hectare)  होता है।

नीम लेपित उर्वरक (Neem Coated Fertilizer)

नाइट्रिफिकेशन और अवरोध गुणों के लिए नीम के तेल के साथ यूरिया का छिड़काव किया जाता है। नीम के लेप से यूरिया से नाइट्रोजन निकलने की प्रक्रिया का पता चलता है और नाइट्रोजन की उपयोग क्षमता में वृद्धि होती है। नीम कोट यूरिया से धान, गन्ना, मक्का, सोयाबीन, अरहर/लाल चने की उपज में वृद्धि होती है। यूरिया में 46% और 60% की उच्च एन और के सामग्री होती है जो मिट्टी के स्वास्थ्य और फसलों के विकास में सुधार करने में मदद करती है।

News Source : hindi.krishijagran.com