IPS Success Story : चार बार मिली असफलता, फिर सोच लिया कि अब राह बदलना बेहतर, इसी बीच दोस्तों ने बढ़ाया हौसला और पांचवें प्रयास में बन गए आईपीएस

UPSC Success Story: इसमें कोई शक नहीं यूपीएससी द्वारा आयोजित की जाने वाली सिविल सेवा परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक होती है। हर साल इस परीक्षा में सफल होने की चाह लिए लाखों युवा शामिल होते हैं। इनमें से कुछ सैकड़ा लोग ही इसमें सफल हो पाते हैं।

कुछ ऐसे भी होते हैं जो कि पूरी गंभीरता से तैयारी के बाद भी सफल नहीं हो पाते। इनमें से कुछ हिम्मत हार कर यूपीएससी की राह ही छोड़ देते हैं तो कुछ हर सफलता के बाद नए उत्साह से तैयारी में जुट जाते हैं। आखिर में मजबूत इच्छा शक्ति और निष्ठा से वे अपने सपने को पूरा भी कर लेते हैं। आईपीएस (IPS) बनने की राह में अक्षत कौशल (akshat kaushal) इन्हीं पड़ावों से गुजर चुके हैं।

लगातार 4 बार मिली नाकामयाबी

अक्षत कौशल ने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी साल 2012 से ही शुरू कर दी थी। वे पहली बार साल 2013 में सिविल सेवा की परीक्षा में शामिल हुए। लेकिन, असफल हो गए। फिर अक्षत ने इस परीक्षा के लिए और भी ज्यादा मेहनत शुरू कर दी थी।

दूसरे प्रयास में भी वह विफल रहे। इसी तरह बेहतरीन तैयारी के बावजूद भी वह तीसरे और चौथे प्रयास में भी परीक्षा क्लियर नहीं कर पाए। अक्षत कौशल को लगातार चार बार असफलताओं का सामना करना पड़ा था। ऐसे में उनका निराश होना लाजमी था।

और अथक परिश्रम के वे 17 दिन

IPS Akshat Kaushal: इसके बाद अक्षत ने सिविल सेवा की राह छोड़ने का फैसला कर लिया था। इसी बीच उनकी मुलाकात कुछ दोस्तों से हुई। दोस्तों से बातचीत के बाद उन्होंने दोबारा यूपीएससी एग्जाम देने का मन बना लिया। इस फैसले पर उनके माता-पिता ने भी भरपूर सहयोग दिया।

हालांकि, परीक्षा के लिए केवल 17 दिन ही बचे थे। इस दौरान उन्होंने बेजोड़ कोशिश की और चंद दिनों की तैयारी में प्रीलिम्स क्लियर कर लिया। साल 2017 के अपने पांचवें प्रयास में उन्होंने न केवल एग्जाम क्रैक किया बल्कि 55वीं रैंक हासिल कर आईपीएस भी बनें।

अभ्यर्थियों के लिए यह सलाह

अक्षत का मानना है कि यूपीएससी एग्जाम देने से पहले इस परीक्षा को अच्छी तरह से समझना चाहिए। किसी भी विषय को लेकर ओवर कॉन्फिडेंट न हों। अपनी ताकत को कमजोरी न बनने दें। यदि किसी विषय पर आपकी अच्छी पकड़ है तो भी उस पर भी ध्यान देना दें। इसके अलावा तैयारी के दौरान अपने करीबियों की सलाह भी जरूर सुनें। इससे न केवल सफलता की राह पर अग्रसर होंगे बल्कि निराशा में भी बड़ा संबल मिलेगा और लक्ष्य से विचलित नहीं होंगे।

News & Image Source :  https://www.jansatta.com/education/upsc-success-story-read-inspirational-story-of-akshat-kaushal-who-became-ips-after-four-failed-attempt-in-civil-service-exam/2278672/