bank me chori : आधा दर्जन ताले काटने में लगे साढ़े तीन घंटे, बैंक का सायरन बजा तो भाग गए चोर, सर्जरी से चेहरा बदल लेता है मास्टर माइंड

It took three and a half hours to cut half a dozen locks, when the siren of the bank rang, the thieves ran away, the master mind changes the face with surgery

▪️ विजय सावरकर, मुलताई
बैतूल जिले के मुलताई थाना क्षेत्र के ग्राम रायआमला में स्थित जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की शाखा में 18 जुलाई की रात में चोरी हुई थी। अज्ञात चोरों ने यहां धावा बोलकर 20 हजार रुपए कीमत का सामान चोरी किया था। इस मामले में शुक्रवार को पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। जबकि चार आरोपी फरार चल रहे हैं। पुलिस का दावा है कि पकड़े गए आरोपी की खासियत है कि वह चोरी के बाद प्लास्टिक सर्जरी करवा कर अपना चेहरा ही बदल लेता था।

एसडीओपी नम्रता सोंधिया और टीआई सुनील लाटा ने पत्रकार वार्ता में बताया कि बैंक में हुई चोरी के बाद पुलिस ने ग्राम रायआमला में मिले सीसीटीवी फुटेज और खम्बारा टोल प्लाजा के सीसीटीवी फुटेज खंगाले। फुटेज में तीन अज्ञात चोर बोलेरो पिकअप से ग्राम रायआमला आए थे। चोरों ने रात 12 से बैंक भवन की शटर में लगे चार ताले गैस कटर से काटे। इसके बाद दो अन्य ताले कांटे। जिसमें चोरों को लगभग 3.30 घंटे का समय लग गया।

इसके बाद जिस रूम में तिजोरी रखी थी, उसके दरवाजे के ताले को काटने की कोशिश की। इसी बीच सायरन बज गया। इस पर चोर अलसुबह 3.30 बजे बैंक से भाग गए। अलार्म बजने से तिजोरी में रखे 17 लाख रुपए चोरी होने से बच गए। एसडीओपी सुश्री सोंधिया ने बताया कि बोलेरो पिकअप के रजिस्ट्रेशन और फास्ट्रैक के आधार पर पुलिस ने बोलेरो पिकअप स्वामी की पतासाजी की। बोलेरो वाहन जबलपुर आरटीओ में पंजीकृत था।

पिकअप स्वामी ने अपना वाहन अमरावती के एक युवक को बेचना बताया। जिसके आधार पर पुलिस ने अमरावती महाराष्ट्र के युवक तक पहुंची। पुलिस ने गोपाल नगर अमरावती (महाराष्ट्र) निवासी शशिकांत पिता रामदास सिड़ामे को उसके घर से दबोचा। शशिकांत ने पुलिस को बताया कि उसके साथ विश्वास सिगर और सागर टांके बैंक में चोरी करने आए थे। शशिकांत ने बताया विश्वास सागर के अलावा उसके 2 साथी अमित निंबोरकर और सुरेश उमड़ ने साथ में मिलकर कई बैंकों में चोरी की है।

चार आरोपी अभी चल रहे फरार

इस मामले में विश्वास सागर अमित और सुरेश फरार है। जिस बोलेरो पिकअप से चोरी करने ग्राम राय आमला आए थे वह पिकअप वाहन विश्वास और सागर लेकर फरार हुए हैं। एसडीओपी सुश्री सोंधिया ने बताया कि आरोपियों के गिरफ्तार होने के बाद कई बड़ी बैंक राबरी का खुलासा होने की संभावना है। फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एसपी सिमाला प्रसाद ने टीम भी गठित की है।

रेकी करने के बाद की थी चोरी

पुलिस गिरफ्त में आए आरोपी शशिकांत ने पुलिस को बताया उन्होंने 16 और 17 जुलाई को ग्राम रायआमला आकर बैंक की रेकी की थी। जानकारी के अनुसार मास्टरमाइंड चोर विश्वास घटना को अंजाम देने के बाद अपना मोबाइल और सिम फेंक देता है। प्लास्टिक सर्जरी करवा कर अपना चेहरा बदल देता है।