खेती किसानी : कृषि वैज्ञानिकों ने बताया मक्के की फसल में हो रहा फाल आर्मी कीट, बड़े पैमाने पर फैलने की आशंका, इस तरह करें बचाव

kheti kisani : Agricultural scientists told that the fall army pest is happening in the maize crop, there is a possibility of spreading it on a large scale, thus protect it

▪️ उत्तम मालवीय, बैतूल
कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस की पहल पर किसानों को खरीफ फसलों (Kharif crops) के रखरखाव के संबंध में कृषि वैज्ञानिकों (agricultural scientists) द्वारा प्लांट क्लीनिक (Plant Clinic) आयोजित कर आवश्यक सलाह दी जा रही है। इस दौरान किसानों को बताया गया कि मक्के की फसल (corn crop) में फाल आर्मी कीट का प्रकोप (Fall Army pest outbreak) तेजी से फैल रहा है। इससे बचाव के तरीकों (methods of protection) की भी उन्होंने विस्तृत जानकारी प्रदान की।

बुधवार 3 अगस्त को बैतूल विकासखंड की क्लस्टर ग्राम पंचायत टाहली एवं खेड़ीसांवलीगढ़ में प्लांट क्लीनिक आयोजित की गई। टाहली में कृषि वैज्ञानिक डॉ. आरडी बारपेटे द्वारा कृषकों को खरीफ फसलों में कीट व्याधि से बचाव के संबंध में आवश्यक सलाह दी गई। साथ ही किसानों द्वारा लाए गए नमूनों की जांच कर उनका निराकरण किया गया। आवश्यक उपचार की सलाह भी दी गई। इस दौरान सोयाबीन की फसलों की कीट व्याधि से बचाव के लिए ड्रोन से कीटनाशक छिडक़ाव का प्रदर्शन किया गया एवं किसानों को ड्रोन से कीटनाशक छिडक़ाव कराने की सलाह दी गई।

ग्राम टाहली में आयोजित प्लांट क्लीनिक में ग्राम पंचायत टाहली, देवगांव, हिवरखेड़ी, बोदीजूनावानी, कोदारोटी, कुम्हली, दनोरा (जीन), जीन, बोरगांव, रातामाटीखुर्द, चांदबेहड़ा के ग्रामीण शामिल हुए। इसी तरह क्लस्टर ग्राम पंचायत खेड़ीसांवलीगढ़ में भी बुधवार को द्वितीय पाली में प्लांट क्लीनिक आयोजित की गई।

यहां ग्राम पंचायत टेमनी, दनोरा (भ.), ढोंडवाड़ा, रोंढा, सेलगांव (खे.), सावंगा, खेड़ीसांवलीगढ़, सराड़, डहरगांव एवं महदगांव के किसान शामिल हुए। किसानों को कृषि वैज्ञानिक डॉ. आरडी बारपेटे द्वारा कृषकों को खरीफ फसलों में कीट व्याधि से बचाव के संबंध में आवश्यक सलाह दी गई। साथ ही किसानों द्वारा लाए गए नमूनों की जांच कर उनका निराकरण किया गया तथा आवश्यक उपचार की सलाह दी गई।

प्लांट क्लीनिक के दौरान किसानों को बताया गया कि मक्के की फसल अभी बहुत अच्छी है। लेकिन, इसमें फाल आर्मी कीट का प्रकोप हो रहा है। यह अभी शुरूआती चरण में है पर बहुत जल्द बड़े पैमाने पर यह फैलेगा। इससे बड़े स्तर पर नुकसान हो सकता है। उन्होंने इस कीट से फसलों को बचाने के तरीकों की विस्तृत जानकारी भी दी। नीचे दिए वीडियो में सुने उन्होंने फसल को बचाने क्या तरीके बताए…

चार अगस्त को साकादेही में आयोजित होगी प्लांट क्लीनिक

किसानों द्वारा वर्तमान में बोई गई फसलों में होने वाले कीट एवं रोगों के लक्षण की जानकारी एवं उपचार की सलाह देने के लिए ग्राम पंचायत के क्लस्टर मुख्यालय पर कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। प्रथम पाली में प्रात: 10.30 बजे से विकासखंड बैतूल के क्लस्टर ग्राम पंचायत साकादेही में प्लांट क्लीनिक आयोजित की जाएगी, जिसमें ग्राम पंचायत साकादेही, कढ़ाई, जामठी, बांसपानी, सिल्लौट, लावन्या, कल्याणपुर, माथनी, लापाझिरी, मंडई बुजुर्ग एवं मंडई खुर्द के किसान भाग लेंगे।

इस दौरान कृषि विज्ञान केन्द्र के पौध रोग विशेषज्ञ डॉ. आरडी बारपेटे, अनुविभागीय कृषि अधिकारी श्री दीपक सरियाम एवं वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी श्रीमती अलका कोड़ापे द्वारा किसानों की कीट-व्याधि के संबंध में समस्या का समाधान किया जाएगा। किसानों से अपील की गई है कि उक्त कार्यक्रम में अधिक से अधिक संख्या में भाग लेकर कृषि वैज्ञानिकों से खरीफ फसलों में होने वाले रोग एवं कीट नियंत्रण के संबंध में सलाह लेकर लाभ लें। साथ ही फसल संबंधी कीट-व्याधि के नमूने लेकर अवश्य आएं, ताकि फसलों की समस्या का निराकरण किया जा सके।

@betulupdate.com