बैतूल में केक काट कर शान से मनाया जाएगा भारत के राष्ट्र ध्वज तिरंगे का जन्म दिन

The birthday of the national flag of India will be celebrated with pride by cutting a cake in Betul.

◼️ उत्तम मालवीय, बैतूल
22 जुलाई को बैतूल सांस्कृतिक सेवा समिति राष्ट्र ध्वज तिरंगे का जन्म दिन शान से मनाएगी। इस बार राष्ट्र ध्वज के जन्मदिन के अवसर पर होमगार्ड के जवान प्रमुख रुप से मौजूद रहेंगे। गरिमामय कार्यक्रम में कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस, एसपी सिमाला प्रसाद, जिला पंचायत सीईओ अभिलाष मिश्र एवं होमगार्ड कमांडेंट शकील आजमी की मौजूदगी में केक काटा जाएगा। अतिथियों को इस स्वर्णिम दिवस पर स्मृति चिन्ह एवं तिरंगा बैज भेंट किया जाएगा।

अपने राष्ट्र ध्वज के अंगीकार दिवस को पिछले दस वर्षों से जिले में मनाया जा रहा है। इसी मौके से बैतूल सांस्कृतिक सेवा समिति अपने राष्ट्र रक्षा मिशन के नए पड़ाव की शुरुआत भी करती है। 22 जुलाई को अपरान्ह 4 बजे जिला पंचायत के सभागृह में केक काटकर और एक दूसरे को तिरंगे का बैज लगाकर राष्ट्र ध्वज अंगीकार दिवस मनाया जाएगा।

समिति अध्यक्ष गौरी पदम, उपाध्यक्ष नीलम वागद्रे, सचिव भारत पदम, कोषाध्यक्ष जमुना पंडाग्रे, सह सचिव ईश्वर सोनी, वरिष्ठ सदस्य प्रदीप निर्मले, प्रज्ञा झगेकर, माधुरी पुजारे, शिवानी मालवीय, पूनम मानकर, ललिता मानकर, कल्पना तरुड़कर, मेहरप्रभा परमार, आकृति परमार, नीलेश उपासे, रेखा अतुलकर, अरुण सूर्यवंशी, संगीता अवस्थी, वंश कुमार पदम, प्रीति सोनी, रेणुका रत्नपारखी ने जिले वासियों से भी तिरंगे का अंगीकार दिवस मनाने का अनुरोध किया है।

Read also : Sainiko ko rakhi : जहां सैनिक की आत्मा करती है सरहद की हिफाजत, वहां तैनात जवानों की कलाई पर बंधेगी बैतूल की राखी

आइएं, अपने तिरंगे को जाने…

हमारे देश के आजाद होने के बाद संविधान सभा में 22 जुलाई 1947 को वर्तमान तिरंगे झण्डे को राष्ट्रीय ध्वज घोषित किया गया था। भारत का राष्ट्रीय ध्वज तीन रंगों से बना है। इसलिए इसे तिरंगा कहा जाता है। तिरंगे में सबसे ऊपर केसरिया, बीच में सफेद और सबसे नीचे हरा रंग बराबर अनुपात में है। ध्वज को साधारण भाषा में झंडा भी कहा जाता है। झंडे की चौड़ाई और लम्बाई का अनुपात 2:3 है। सफेद पट्टी के केंद्र में गहरा नीले रंग का चक्र है, जिसका प्रारूप सारनाथ में स्थापित सिंह के शीर्षफलक के चक्र में दिखने वाले चक्र की भांति है। चक्र की परिधि लगभग सफेद पट्टी की चौड़ाई के बराबर है। चक्र में 24 तीलियां है।

Read also : बैतूल के इस स्कूल में पीरियड्स आने पर छात्राओं को स्कूल से नहीं लगानी होगी घर के लिये दौड़, खुला सशक्त सुरक्षा पेड बैंक

बैतूल सांस्कृतिक सेवा समिति ने 22 जुलाई को राष्ट्र ध्वज का जन्मदिन हर्षोल्लास के साथ मनाने का आग्रह जिले वासियों से भी किया है। स्कूलों में भी विद्यार्थियों को इस दिन की जानकारी शिक्षकों द्वारा दी जा सकती है। गौरतलब है कि पूरा देश यह वर्ष आजादी के अमृत महोत्सव के रुप में मना रहा है। घर-घर तिरंगा अभियान के तहत हर घर में आजादी की वर्षगांठ के अवसर पर तिरंगा लहराने की अपील की जा रही है। ऐसे में तिरंगे का जन्मदिन मनाना भी देश के हर नागरिक के लिए गर्व भरा लम्हा होगा।

Read also : मंदिर निर्माण के इतिहास में गिलहरी की तरह याद रखा जाएगा बैतूल का योगदान: डॉ. पंडाग्रे