सबसे लंबे रेलमार्ग : यह हैं भारत के सबसे रेलमार्ग, घंटों में नहीं, बल्कि सफर तय करने में लग जाते हैं कई दिन

Longest Railroutes : These are the longest rail routes in India, not in hours, but it takes days to travel

Photo : Zee News

Longest Train Route: भारत का रेल नेटवर्क दुनिया के सबसे बड़े और पुराने नेटवर्क में से एक है। जाहिर है कि इतने बड़े और पुराने नेटवर्क में कई दिलचस्प बातें भी शामिल होंगी ही। आज हम जानेंगे भारत के कुछ सबसे बड़े रेलमार्गों और उन्हें कवर करने वाली ट्रेनों के बारे में।

डिब्रूगढ़ से कन्याकुमारी रेल मार्ग भारत (India) का सबसे लंबा रेल मार्ग है। यही नहीं दुनिया के सबसे लंबे रेल मार्गों में भी जगह बना चुका है। यह रेलमार्ग 4,233 किलोमीटर लंबा है और भारत के 9 राज्यों में फैला हुआ है। विवेक एक्सप्रेस (Vivek Express) इस रेलवे मार्ग पर दौड़ती है और 82 घंटे में इस पूरे रूट को कवर करती है। इस ट्रेन को 2013 से शुरू किया गया था। ये ट्रेन लगभग 55 स्टॉप्स पर रुकती है और अपना सफर पूरा करती है।

ऑपरेशन बंद करने वाली आखिरी ट्रेन

जब कोविड (Covid) के आने के बाद 2020 में पहली बार देश में लॉकडाउन (Lockdown) लगा था, तब अपना ऑपरेशन बंद करने वाली आखिरी ट्रेन विवेक एक्सप्रेस ही थी। ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय ट्रेनों को बीच में नहीं रोका गया था। अपने गंतव्य के लिए निकल चुकी ट्रेन को तभी बंद किया गया था जब वे अपने लास्ट स्टॉपेज पर पहुंच गई थी। इस ट्रेन को सबसे ज्यादा समय अपना सफर पूरा करने में लगता है। इसलिए यह ट्रेन सबसे बाद में बंद हुई थी।

यह भी पढ़ें…गजब का विकास : घुटनों भर पानी और कीचड़ से सराबोर होकर… खतरनाक और उफनते नदी-नाले पार कर… आओं, स्कूल चले हम…

दूसरा सबसे बड़ा रेलमार्ग

भारत का दूसरा सबसे बड़ा रेलमार्ग तिरुवनंतपुरम से सिलचर तक है। इस रूट पर तिरुवनंतपुरम से सिलचर सुपरफास्ट एक्सप्रेस चलती है। इस रेलमार्ग की कुल लंबाई 3,932 किलोमीटर है।तिरुअनंतपुरम-सिलचर सुपरफास्ट एक्सप्रेस भारत की दूसरी सबसे ज्यादा लंबी दूरी करने वाली ट्रेन है।

यह भी पढ़ें…अलर्ट : लेंडु नदी की पुलिया पर हुआ बड़ा गड्ढा, धंसक भी रही; छोटी सी लापरवाही भी साबित हो सकती है जानलेवा

भारत का तीसरा सबसे लंबा रेलमार्ग

भारत का तीसरा सबसे लंबा रेलमार्ग जम्मू से कन्याकुमारी तक है। इसकी लंबाई 3,709 किलोमीटर है। कन्याकुमारी से जम्मू कश्मीर के श्री माता वैष्णो देवी कटरा के बीच चलने वाली ट्रेन हिमसागर एक्सप्रेस इस पूरे रेलमार्ग को कवर करती है। यह तीसरी सबसे ज्यादा लंबी दूरी वाली ट्रेन है। इस ट्रेन को यह दूरी तय करने में लगभग 70 घंटे का समय लगता है।

यह भी पढ़ें…Education system : महज 46 बच्चों पर 3 शिक्षक, फिर भी नहीं हो रही ढंग की पढ़ाई, पालक स्कूल से ले गए अपने बच्चे

भारत का चौथा सबसे लंबा रेलमार्ग

भारत का चौथा सबसे बड़ा रेलमार्ग तिरुनेलवेली से जम्मू रेलमार्ग है। इसकी लंबाई 3,631 किलोमीटर है। जम्मू कश्मीर के जम्मू से तमिलनाडु के तिरुनेलवेली के बीच यह रेलमार्ग स्थित है। इस रेलमार्ग को जम्मू एक्सप्रेस कवर करती है। यह ट्रेन लगभग 72 घंटे में इतनी लंबी दूरी को तय करती है। इस बीच में 62 स्टेशनों पर यह रुकती है।

यह भी पढ़ें…बड़ी खबर : निर्वाचन कार्य में गंभीर लापरवाही, जो लड़ा ही नहीं चुनाव, उसे थमा दिया पंच पद पर विजेता का प्रमाण पत्र

रूस में है दुनिया का सबसे लंबा रेलमार्ग

अभी तक हमने चर्चा की भारत के सबसे लंबे रेल नेटवर्कों के बारे में। अब यहां यह जानना भी जरूरी होगा कि दुनिया का सबसे लंबा रेलमार्ग कौनसा है। आपको बता दें कि दुनिया का सबसे लंबा रेल मार्ग रूस (Russia) में है। दुनिया के सबसे लंबे रेल मार्ग (World’s Longest Train Route) को तय करने में लगभग 6 दिन लगते हैं।

इस मार्ग की लंबाई 9,000 किलोमीटर से भी ज्यादा है. मास्को (Moscow) से शुरू होकर ट्रेन व्लादिवोस्तोक तक जाती है। अगर इस मार्ग की तुलना भारत के सबसे लंबे रेल मार्ग से की जाए तो आपको पता चलेगा कि ये मार्ग तो बिल्कुल डबल लंबाई तय करता है।

यह भी पढ़ें… Sarkari Naukari : रेलवे की इंट्रीगल कोच फैक्ट्री में अप्रेंटिस के 876 पदों की निकली वेकेंसी, 26 तक कर सकते आवेदन

Get real time updates directly on you device, subscribe now.