barish ki bimariyan : वर्षा के मौसम में इन बीमारियों का डर, जानलेवा साबित हो सकती है लापरवाही, विभाग ने बताए बचाव के गुर

◼️ उत्तम मालवीय, बैतूल
बरसात के मौसम में बीमारियां (rain diseases) फैलने का खतरा अधिक रहता है। इस मौसम में होने वाली बीमारियां खतरनाक साबित हो सकती हैं। इससे सावधानी बरतने की आवश्यकता है। लापरवाही जानलेवा हो सकती है। वर्षा के मौसम में सर्दी, जुकाम, बुखार, मलेरिया, चिकनगुनिया (Chikungunya), हैजा (cholera) एवं टाइफाइड (typhoid) जैसी बीमारियां हो सकती हैं। इनसे बचने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने एडवायजरी जारी की है।

विभाग द्वारा सलाह दी गई है कि बारिश में ज्यादा देर तक न भीगे। भीगने से बचे। भीगने पर शरीर को साफ-कपड़े से पोंछ कर तुरंत कपड़े बदल लें। मलेरिया से बचने के लिये अपने घर के आसपास गड्ढा न होने दें। अगर गड्ढा हो तो, उसमें पानी एकत्रित न होने दें।

Read Also… होली: केवल रस्म अदायगी या हुड़दंग का बहाना नहीं, इसके पीछे है हमारे पूर्वजों की वैज्ञानिक सोच, सेहतमंद करना था उद्देश्य

हैजा से बचने के लिए घर के आसपास सफाई रखें। गंदा पानी उपयोग में न लायें। पानी को छानकर या उबालकर उपयोग करें। टाइफाइड खतरनाक बीमारी में से एक है। यह संक्रमित जल व दूषित भोजन से होती है। इस बीमारी में तेज बुखार आता है एवं कई दिनों तक रहता है। इस बीमारी का संक्रमण रोगी के पित्ताशय में रहता है। टाइफाइड होने वाले रोगी से दूर रहना चाहिए और चिकित्सक से दवा लेनी चाहिये।

Read Also… Disadvantages of drinking cold water : गर्मियों में ठंडा पानी पीना सेहत पर पड़ सकता है भारी, चिल्ड वॉटर पीने के जानिएं साइड इफेक्ट्स

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एके तिवारी ने आमजन से अपील की है कि वर्षा के मौसम में होने वाली बीमारियों से बचाव जरूरी है। अगर बचाव न किया जाये तो यह खतरनाक हो सकती है। इसलिए कोई भी बीमारी होने पर चिकित्सक को अवश्य दिखायें। जिससे रोग की पहचान की जा सके तथा त्वरित उपचार हो सके।

Read Also… Bhutte ke fayde : बारिश के रूमानी मौसम में मन ललचा देती है गर्मागर्म भुट्टों की महक; स्वाद लाजवाब, सेहत के लिए भी फायदेमंद