Multai ki rath yatra : मुलताई में एक जुलाई को निकलेंगी ऐतिहासिक रथ यात्रा, उधर बाबा अमरनाथ यात्रा का हुआ शुभारंभ

◼️ विजय सावरकर, मुलताई
Multai ki rath yatra : बैतूल जिले के मुलताई नगर में पुरी की रथ यात्रा (Puri Rath Yatra) की तर्ज पर प्रतिवर्ष रथ यात्रा निकाली जाती है। इस वर्ष भी यह धार्मिक आयोजन किया जाएगा। ताप्ती तट स्थित जगदीश मंदिर (Jagdish Mandir Multai) से निकलने वाली रथ यात्रा की तैयारी पूर्ण कर ली गई है। जगदीश मंदिर मूर्ति ट्रस्ट के व्यवस्थापक खंडेलवाल समाज द्वारा 1 जुलाई को दोपहर 1 बजे रथ यात्रा निकाली जाएगी। उधर बाबा अमरनाथ की यात्रा भी आज से शुरू हो गई है।

मुलताई में निकलने वाली रथ यात्रा में भगवान जगन्नाथ और बलभद्र अपनी लाड़ली बहन सुभद्रा को रथ पर बैठाकर नगर दिखाने निकलेंगे। खंडेलवाल समाज सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु इस रथ को खींचकर असीम पुण्य की प्राप्ति करेंगे। इसको लेकर खंडेलवाल समाज की बैठक बृजकिशोर खंडेलवाल सर्वेराकार अध्यक्ष जगदीश मंदिर ट्रस्ट की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें रथ यात्रा की व्यवस्थाओं के संबंध मे अनेक निर्णय लिए गए।

यह भी पढ़ें… हनुमान जन्मोत्सव : मुलताई में निकली शोभायात्रा में उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब, आकर्षक झाकियों ने मोह लिया मन

यह रथ यात्रा ताप्ती तट से आरंभ हो कर नगर के मुख्य मार्गों का भ्रमण कर शाम 5 बजे वापसी जगदीश मंदिर पर समाप्त होगी। उल्लेखनीय है कि ताप्ती तट पर स्थित जगदीश मंदिर अत्यंत प्राचीन मंदिरों में से एक है। श्रद्धालु मोनू खंडेलवाल बताते हैं कि इस मंदिर में लगभग 200 वर्ष प्राचीन पुरी से बुलाई गई भगवान जगन्नाथ सुभद्रा और बलराम जी की प्रतिमा स्थापित है। जिनकी अपनी मान्यता है। यहां दूर-दूर से श्रद्धालु दर्शन करने जगदीश मंदिर पहुंचते है। यह रथ यात्रा 15 वर्षों से निरंतर निकाली जा रही है।

ताप्ती तट पर स्थित जगदीश मंदिर की बात करें तो यह अत्यंत प्राचीन मंदिरों में से एक है। खंडेलवाल समाज द्वारा वर्ष 2013 में मंदिर का जीर्णोद्धार कर इसे भव्य रुप दिया गया था। वहीं इस रथ यात्रा का पूरे वर्ष भर नगर वासियों को इंतजार रहता है। जगह-जगह यात्रा पर पुष्प वर्षा की जाती है। इस रथ यात्रा के धार्मिक आयोजन में मंदिर ट्रस्ट के साथ ही नगरवासी भी सहभागिता निभाते हैं।

बाबा अमरनाथ यात्रा का शुभारंभ, बैतूल से जाएंगे 400 श्रद्धालु

Amarnath Yatra : वैश्विक महामारी कोविड-19 के चलते 2 वर्षों से बंद अमरनाथ यात्रा आज 30 जून से प्रारंभ हो गई है। अमरनाथ यात्रा शुरू होने से सभी शिव भक्तों में हर्ष व्याप्त है। अमरनाथ सेवा समिति के पंजाब राव गायकवाड़ ने बताया कि गुरुवार से बाबा बर्फानी अपने सभी भक्तों को दर्शन देंगे।

अमरनाथ यात्रा के लिए बैतूल जिले से लगभग 400 यात्रियों ने अपना पंजीयन कराया है, जो अलग-अलग तिथियों में यात्रा के लिए रवाना होंगे। उन्होंने बाबा बर्फानी की पवित्र गुफा के दर्शन के लिए जा रहे यात्रियों को अपने साथ गर्म कपड़े, बरसाती, टॉर्च, पंजीयन कार्ड, आधार कार्ड ले जाने की अपील की है। उन्होंने बताया कि 3880 मीटर ऊंचाई पर स्थित पवित्र गुफा की 43 दिन लंबी यात्रा पहलगाम के 48 किमी वाले लंबे मार्ग एवं कश्मीर के बालाघाट के 14 किमी छोटे, लेकिन दुर्गम मार्ग से एक साथ शुरू होंगी।

यह भी पढ़ें… Barish ke totake : बैतूल में बारिश के लिए अनोखा जलाभिषेक, शिव के गर्भगृह को 24 घंटे के लिए किया जलमग्न, हो रहा 24 घंटे का राम नाम जप

दोनों मार्ग से प्रतिदिन 10 हजार यात्री जा सकेंगे। इसके अलावा यात्री जगह-जगह भंडारे, यात्री कैंप और चिकित्सा सेवा का लाभ ले पाएंगे। समिति के शैलेंद्र बिहारिया प्रकाश बंजारे ने बताया कि इस वर्ष यात्री हेलीकॉप्टर सेवा का भी लाभ ले सकेंगे। श्रद्धालु श्रीनगर से पंचतरणी तक आसानी से यात्रा कर सकते हैं और एक ही दिन में पवित्र यात्रा पूरी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें… काले महाराज ने 25 साल बाद पहनी चरण पादुका, इसकी यह है खास वजह

हुमहामा, पहलगाम और नीलग्राथ में विशेष हेलीपैड बनाए गए है। इमरजेंसी हेलीपैड भी तैयार किए गए हैं। श्रद्धालु श्राइन बोर्ड की वेबसाइट पर हेलीकॉप्टर की बुकिंग करा सकते हैं। अमरनाथ समिति के चंचल पांसे, मनोहर मालवी, नितिन बारस्कर, गोपी परते, संतोष शिंदे, अरुण बोरवन, निलेश पवार, योगेश देशमुख, महेंद्र प्रजापति, महेश धांधोड़े ने सभी यात्रियों को बधाई दी है।

यह भी पढ़ें… Amarnath Yatra : अमरनाथ यात्रा के लिए शुरू हुआ पंजीयन, इन दस्तावेजों को होगी जरूरत, इस दफ्तर में कराना होगा रजिस्ट्रेशन