Naman Ojha : क्रिकेटर नमन ओझा के पिता वीके ओझा बैतूल में गिरफ्तार, बैंक में सवा करोड़ के गबन का है मामला

Cricketer Naman Ojha's father VK Ojha arrested in Betul, there is a case of embezzlement of 1.25 crores in the bank

◼️ उत्तम मालवीय, बैतूल
Naman Ojha : बैतूल जिले के मुलताई क्षेत्र में ग्राम जौलखेड़ा स्थित बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank Of Maharashtra) की शाखा में वर्ष 2013 में लगभग सवा करोड़ रुपये का गबन (embezzlement) हुआ था। इस मामले में तत्कालीन प्रबंधक वीके ओझा (VK Ojha) को पुलिस ने गिरफ्तार (Arrested) कर लिया है। ओझा क्रिकेट खिलाड़ी नमन ओझा के पिता हैं। उन पर धारा 409, 420, 467, 468, 471, 120 बी, 34 और आईटी एक्ट की धारा 65, 66 के तहत मामला दर्ज था। गबन के मामले के अन्य आरोपियों को पुलिस पूर्व में ही गिरफ्तार कर चुकी थी। ओझा लंबे समय से फरार चल रहे थे।

एसडीओपी मुलताई नम्रता सोंधिया ने बताया कि गबन के मामले में फरार चल रहे आरोपी विनय ओझा को गिरफ्तार कर लिया गया है। वे क्रिकेटर नमन ओझा के पिता हैं। वर्ष 2013 में बैंक आफ महाराष्ट्र शाखा जौलखेड़ा में पदस्थ बैंक मैनेजर अभिषेक रत्नम ने गबन की साजिश रची थी। उनका तबादला होने के बाद ओझा एवं अन्य ने मिलकर 2 जून 2013 को लगभग 34 फर्जी खाते खुलवाए। इन पर केसीसी का लोन ट्रांसफर कर लगभग सवा करोड़ रुपये का आहरण कर लिया। जिस समय यह गबन हुआ तब बैंक ऑफ महाराष्ट्र शाखा में विनय ओझा शाखा प्रबंधक के पद पर पदस्थ थे।

यह भी पढ़ें… embezzlement : बैंक ऑफ महाराष्ट्र में 90 लाख रूपये की भारी भरकम राशि का गबन, पांच कर्मचारियों पर अफसरों ने कराई एफआईआर

पूर्व प्रबंधक अभिषेक रत्नम, विनोद पंवार, लेखापाल निलेश छलोत्रे, दीनानाथ राठौर सहित ओझा द्वारा गबन की राशि बांट ली गई थी। करीब एक साल बाद तत्कालीन शाखा प्रबंधक रितेश चतुर्वेदी ने 19 जून 2014 को गबन की शिकायत थाने में की थी। शिकायत में बताया कि फर्जी नाम और फोटो के आधार पर किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर बैंक से राशि आहरित की गई है। तरोड़ा बुजुर्ग निवासी दर्शन पिता शिवलू की मौत होने के बाद भी उसके नाम से खाता खोलकर रुपये आहरित कर लिए गए थे। अन्य किसानों के नाम से भी किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर लगभग सवा करोड़ रुपये की राशि आहरित की गई थी।

यह भी पढ़ें…A surprise check : आधी रात के बाद एसपी सिमाला प्रसाद अचानक पहुंचीं शाहपुर थाना, नजारा देख तल्ख अंदाज में पूछा- यह क्या है तमाशा, दी सख्त हिदायत

शिकायत के बाद पुलिस ने जांच के दौरान पाया कि राशि आहरित करने के बाद बैंक मैनेजर अभिषेक रत्नम, विनय ओझा, लेखापाल निलेश छलोत्रे, दीनानाथ राठौर सहित अन्य ने आपस में राशि बांट ली थी। पुलिस ने अभिषेक रत्नम, वीके ओझा, निलेश छलोत्रे सहित अन्य के खिलाफ धारा 409, 420, 467, 468, 471, 120 बी, 34 और आईटी एक्ट की धारा 65, 66 के तहत केस दर्ज किया था। इस मामले में तत्कालीन प्रबंधक अभिषेक रत्नम, निलेश छलोत्रे सहित अन्य की गिरफ्तारी पूर्व में हो गई थी। केस दर्ज होने के बाद से विनय ओझा फरार चल रहा था।

यह भी पढ़ें…King Cobra’s attitude : किसी ‘किंग’ की तरह ही थी किंग कोबरा की शान, जोरदार फुफकार से किया स्वागत, पकड़ने पर भी तेवर नहीं पड़े ढीले, आप भी देख कर हो जाएंगे हैरान

मुलताई टीआई सुनील लाटा ने बताया कि सोमवार को विनय ओझा को गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तार किए गए तत्कालीन बैंक प्रबंधक विनय ओझा क्रिकेटर नमन ओझा के पिता हैं। पुलिस ने उन्हें न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी न्यायालय मुलताई में पेश किया। पुलिस ने एक दिन की रिमांड मांगी थी। न्यायालय ने पूछताछ के लिए एक दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा है।

यह भी पढ़ें… Police Action : कॉम्बिंग गस्त के दौरान धराए आधा दर्जन गिरफ्तारी वारण्टी और एक स्थायी वारण्टी गिरफ्तार, भेजे गए उपजेल मुलताई

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.