embezzlement : बैंक ऑफ महाराष्ट्र में 90 लाख रूपये की भारी भरकम राशि का गबन, पांच कर्मचारियों पर अफसरों ने कराई एफआईआर

A huge amount of Rs 90 lakh was embezzled in Bank of Maharashtra, the officers lodged an FIR against five employees

• उत्तम मालवीय, बैतूल

बैंक ऑफ महाराष्ट्र (bank of maharashtra) की बैतूल शाखा में 90 लाख रूपये की भारी भरकम राशि के गबन (embezzlement) का मामला सामने आया है। बैंक महाप्रबंधक की रिपोर्ट पर बैतूल गंज पुलिस थाना में शाखा के 5 कर्मचारियों पर एफआईआर दर्ज की गई है। उन पर अमानत में खयानत की धारा 409 के तहत मामला दर्ज किया गया है। अभी किसी भी कर्मचारी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र बैंक की शाखा में पिछले कई माह से 90 लाख रूपये की राशि का हिसाब नहीं मिल रहा था। इस बाबत बैंक के मैनेजर अमित कुमार मेहता ने रीजनल अधिकारियों को सूचना दी। इसके बाद बैंक में लगे एटीएम की 21 मई तक के फूटेज की जांच की गई। इस फूटेज में सारी वस्तु स्थिति देखी गई।

बैंक मैनेजर अमित मेहता ने गंज थाने में 21 मई को शिकायत में बताया कि कुल 75 लाख रूपये की राशि कम पाई गई। शाखा की ओर से आंचलिक मुख्य प्रबंधक को सूचना देकर अवगत कराया था कि शाखा में 90 लाख रूपये की राशि कम पाई गई है। फूटेज के आधार पर बैंक के पूर्व बेस्ट प्रभारी जाफर अहमद, वर्तमान बेस्ट प्रभारी निलेश के मल्लिक, सहायक अधिकारी श्रीमती रितू बोहरिया, क्लर्क श्रीकांत यादव एवं दफ्तरी सुनील कुमरे द्वारा संयुक्त रूप से अपराध करना पाया गया।

जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र बैंक में रूपये की हेराफेरी का खेल लंबे समय से चल रहा था। मैनेजर द्वारा दी गई सूचना पर यकीन करें तो आंचलिक कार्यालय द्वारा की गई जांच में बिन नंबर 33 में 25 लाख रूपय कम पाए गए। बैंक मैनेजर के मुताबिक करेंसी बेस्ट में पदस्थ कर्मचारियों की जिम्मेदार लेनदेन की रहती है। इनके द्वारा बिन नंबर 33, 45 एवं 46 में भरे गए नोट कम पाए गए।

सीसीटीवी फूटेज के आधार पर संबंधित कर्मचारियों के विरूद्ध कार्रवाई की गई। जानकारी सामने आई कि 5 सितम्बर 2022 को पूर्व बेस्ट प्रभारी आर अहमद और उसके बाद वर्तमान बेस्ट प्रभारी निलेश मल्लिक एवं अन्य 4 की भूमिका संदिग्ध पाए जाने के बाद एफआईआर कराई गई है।

इस पूरे मामले में बैंक ऑफ महाराष्ट्र के प्रबंधक अमित कुमार मेहता ने हमारे सहयोगी प्रकाशन ‘सांझवीर टाइम्स’ से चर्चा करते हुए बताया कि आंचलिक कार्यालय की जांच के बाद हमारी ओर से गंज थाने में 90 लाख रूपये कम पाए जाने पर कर्मचारियों के विरूद्ध एफआईआर कराई गई है। वहीं गंज थाना प्रभारी अनुराग प्रकाश ने बताया कि बैंक मैनेजर की शिकायत पर 5 कर्मचारियों के विरूद्ध 409 का मामला दर्ज किया है। मामले में जांच की जा रही है। अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

Scam : पंचायतों में इंसीनरेटर खरीदी में बड़ा घोटाला, 10 हजार की मशीन 54980 में खरीदी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

4 Comments
  1. Hiralal Dongare says

    इतनी बडी राशी जो कि जनता का पैसा है बिचारे दिनभर भुखे प्यासे रहकर बैंक मे आडे दिनो के लिये पैसो की बचत करके बैक मे रखते है और कुछ मुठ्ठी भर लोग ए सी मे बैठकर गरीबो के पैसो का गबन करते है उन पर कडी कार्यावही होना चाहिये. बैक मैनेजर का कार्य सराहनीय है जिन्होने कम समय मे उच्च अधिकारीयो इस गडबड झाला की सुचना देकर उचित कार्यवाही की.

  2. Hiralal Dongare says

    इतनी बडी राशी जो कि जनता का पैसा है बिचारे दिनभर भुखे प्यासे रहकर बैंक मे आडे दिनो के लिये पैसो की बचत करके बैक मे रखते है और कुछ मुठ्ठी भर लोग ए सी मे बैठकर गरीबो के पैसो का गबन करते है उन पर कडी कार्यावही होना चाहिये. बैक मैनेजर का कार्य सराहनीय है जिन्होने कम समय मे उच्च अधिकारीयो को इस गडबड झाला की सुचना देकर उचित कार्यवाही की.

  3. Gopal Sarathe says

    सर हमारे यहाँ धोडाडोगरी मे भी ऐसा ही है

Leave A Reply

Your email address will not be published.