SM strike postponed : अब 31 को नहीं थमेंगे देश में रेलगाड़ियों के पहिए, केंद्रीय श्रम उपयुक्त ने किया मामले में हस्तक्षेप, जनहित को देखते हुए लिया निर्णय

Now the wheels of trains in the country will not stop on 31st, Central Labor Appropriate intervened in the matter, decision was taken in view of public interest

केंद्रीय उप श्रम आयुक्त नई दिल्ली के द्वारा हस्तक्षेप करने के कारण ऑल इंडिया स्टेशन मास्टर एसोसिएशन के द्वारा प्रस्तावित 31 मई 2022 को सामूहिक छुट्टी (हड़ताल) का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है। इससे यह तय हो गया है कि 31 मई को अब देश भर में रेलगाड़ियों के पहिए नहीं थमेंगे।

आल इंडिया स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन (AISMA) के केंद्रीय अध्यक्ष धनंजय चंद्राते और केंद्रीय महा सचिव पी सुनील कुमार ने बताया कि केंद्रीय उप श्रम आयुक्त दिल्ली के द्वारा हमारे मामले में हस्तक्षेप करने के बाद केंद्रीय पदाधिकारी, जोनल पदाधिकारियों की एक ऑनलाइन CEC बैठक आयोजित की गई और सुलह के बारे में चर्चा की गई। उप मुख्य श्रम आयुक्त (सी), दिल्ली ने हमारे स्ट्राइक नोटिस के संबंध में हस्तक्षेप किया है।

हमारी मांगों पर रेलवे प्रबंधन ने जवाब प्रस्तुत किया। त्रिपक्षीय चर्चा (एस्मा प्रतिनिधि, रेल प्रशासन एवं केंद्रीय श्रम आयुक्त दिल्ली) के दौरान डिप्टी सीएलसी ने दोनों पक्षों को सुना और हमारी पूरी मांगों को सुनने के बाद डिप्टी सीएलसी ने एसोसिएशन से 26/5/22 को लिखित में हमारी मांगों का विवरण देने के लिए कहा। साथ ही 30.05.2022 को विस्तृत चर्चा का आश्वासन दिया।

यह भी पढ़ें… Station Masters Strike : एक बार फिर थम सकते हैं देश भर में रेलगाड़ियों के पहिए, रेलवे को दिया जा चुका है अल्टीमेटम

इस बीच, डिप्टी सीएलसी ने इस मुद्दे को निपटाने का आश्वासन दिया और एसोसिएशन से 31.05.2022 को प्रस्तावित स्ट्राइक को सार्वजनिक हित को ध्यान में रखते हुवे स्थगित करने का अनुरोध किया। MOSR ने भी हस्तक्षेप किया और दिल्ली में एक बैठक आयोजित की गई है। डिप्टी सीएलसी (सी) के सकारात्मक दृष्टिकोण एवं पब्लिक हित को ध्यान में रखते हुए एक्शन कमेटी एस्मा ने 31 मई 2022 को निर्धारित हड़ताल पर रोक लगाने का निर्णय लिया है।

यदि 30 मई त्रिपक्षीय वार्ता से वांछित परिणाम नहीं मिलते हैं, तो हमारी एक्शन कमेटी की एक कम समयावधि वाली सूचना पर स्ट्राइक के साथ आगे बढ़ेंगे। पूरे भारतवर्ष में लगभग 70 से 80% सामूहिक छुट्टी की प्रार्थना पत्र एकत्रित हो चुकी है और अपने अपने मंडल में मंडल सचिव के पास उपलब्ध है। वार्ता विफल होने पर पुनः अग्रिम कार्रवाई के लिए हम तैयार रहेंगे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.