दुकानें हटाने से खड़ा होंगा रोजी रोटी का संकट, अस्पताल परिसर की सुरक्षा दीवार से लगी दुकानों के संचालकों ने तहसीलदार से लगाई गुहार

Removal of shops will raise livelihood crisis, the operators of the shops adjoining the security wall of the hospital premises appealed to the Tehsildar

  • विजय सावरकर, मुलताई
    अतिक्रमण हटाओ मुहिम के चलते हमारी दुकान हट जाने से हमारे सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो जाएगा। इन परिस्थितियों में कुछ निर्धारित क्षेत्रफल तय कर हमें दुकान लगाने की सुविधा प्रदान करे। यह बात मुख्य मार्ग के किनारे स्थित सरकारी अस्पताल परिसर की सुरक्षा दीवार से सटी सरकारी भूमि में लगी दुकानों के संचालकों ने प्रभारी एसडीएम तहसीलदार सुधीर जैन से कही।

    शुक्रवार दोपहर में जन आंदोलन मंच के मोहन सिंह परिहार रजनीश गिरे के नेतृत्व में तहसील कार्यालय पहुंचे व्यापारियों ने तहसीलदार श्री जैन को बताया उनके परिवार के पालन पोषण का जरिया दुकान ही है। यदि दुकान हट जाएंगी तो उनके सामने परिवार के पालन पोषण का संकट खड़ा हो जाएगा।

    मोहन सिंह परिहार ने कहा वैकल्पिक व्यवस्था बतौर दुकानदारों को इसी स्थल पर क्षेत्रफल निर्धारित कर दुकान लगाने के लिए जगह उपलब्ध कराई जाए। दुकानदारों की समस्या सुनने के बाद तहसीलदार श्री जैन ने कहा कि वर्तमान में सरकारी भूमि पर किए गए हर तरह के अतिक्रमण को हटाया जा रहा है।

    चिन्हित किए गए अतिक्रमण को हटाने को लेकर किसी को कोई रियायत नहीं दी जा रही है। बिना किसी भेदभाव के अतिक्रमण हटाया जा रहा है। अतिक्रमण से प्रभावित होने वाले व्यापारियों की समस्या को लेकर उच्च अधिकारियों को अवगत कराएंगे। तहसीलदार श्री जैन में वर्तमान परिस्थितियों में कोई भी आश्वासन देने से इंकार कर दिया।

    गौरतलब है कि बीते बुधवार से नगरीय क्षेत्र में राजस्व विभाग ने नगर पालिका के सहयोग से अतिक्रमण हटाओ मुहिम प्रारंभ कर दी है। जिसके चलते बुधवार को बैतूल रोड क्षेत्र में मार्ग के किनारे स्थित पक्के और कच्चे अतिक्रमण हटाए। जिसके चलते अस्पताल परिसर की सुरक्षा दीवार से सटी सरकारी भूमि पर लगी दुकानों के संचालकों ने गुरुवार सुबह से स्वयं ही अपनी दुकानें हटाना प्रारंभ कर दिया था। हालाकि कुछ दुकानें अभी नहीं हटी हैं।

  • Get real time updates directly on you device, subscribe now.

    Leave A Reply

    Your email address will not be published.