Supervision : कलेक्टर बोले- दो से तीन फीट और गहरा होना था इंटकवेल, और देरी होने पर लगेगी ठेकेदार पर पेनाल्टी

The collector said - the gap was to be deepened by two to three feet, and if there is a delay, the contractor will be penalized

बैतूल कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने गुरुवार को हरदौली जल आवर्धन योजना के पीएचई घटक के निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने डैम से संपवेल में जमा हो रहे पानी के सैंपल की टीडीएस किट से जांच की।

◼️ विजय सावरकर, मुलताई
बैतूल कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने गुरुवार को हरदौली जल आवर्धन योजना के पीएचई घटक के निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने डैम से संपवेल में जमा हो रहे पानी के सैंपल की टीडीएस किट से जांच की।

कलेक्टर श्री बैंस ने नगर पालिका सीएमओ और ठेकेदार को 31 मई तक फिल्टर प्लांट का काम पूरा करने के निर्देश दिए हैं। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने सीएमओ से पूछा हरदौली जल आवर्धन योजना के कनेक्शन नगर वासियों को कैसे दोगे, इसके लिए कोई स्टीमेट बनाया है?

इस पर वहां मौजूद नगर पालिका बैतूल के कार्यपालन यंत्री महेश अग्रवाल ने बताया कि कनेक्शन देने के लिए एस्टीमेट बनाया जा रहा है। इस पर कलेक्टर ने कहा कि कनेक्शन लेने के नाम पर नगर वासियों से अलग से राशि नहीं ली जाएं। कलेक्टर ने कार्यपालन यंत्री और नगर पालिका सीएमओ को फिल्टर प्लांट के निर्माण कार्य गुणवत्ता पूर्वक करने के निर्देश दिए।

प्लांट के निर्माण कार्य की गति धीमी

कलेक्टर ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान बताया कि उन्हें फिल्टर प्लांट के निर्माण कार्यों में धीमी गति होने की शिकायत मिली थी। इसलिए वे निरीक्षण करने आए हैं। डैम के पानी की क्वालिटी की जांच सप्ताह में दो बार करने के निर्देश पीएचई विभाग को दिए हैं। कलेक्टर ने कहा कि इंटेकवेल दो से तीन फीट और गहरा होना था। निर्माण कार्य में और देरी होने पर ठेकेदार के खिलाफ पेनाल्टी भी लगाई जाएगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.