स्वामी सत्यनारायण गिरी महाराज ने किया समाधि स्थान का निरीक्षण, राहिसे के पदाधिकारियों ने लिया आशीर्वाद

Swami Satyanarayan Giri Maharaj inspected the place of Samadhi, the officials of RHS took blessings

बैतूल। सिवनी के ब्रम्हऋषि, सनातन संस्कृति आध्यात्मिक महाविद्या उत्थान केंद्र के संचालक स्वामी डॉ. सत्यनारायण गिरी महाराज मुलताई तहसील के बोरगांव में मां ताप्ती तट में तीन दिवसीय जीवित समाधि स्थान का निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान सद्गुरूदेव के चरणों में संगठन के प्रदेशाध्यक्ष दीपक मालवीय एवं मध्य भारत प्रान्त अध्यक्ष पवन मालवीय ने तीन दिवसीय समाधि ले रहें ब्रम्हऋषि सद्गुरूदेव महंत डॉ सत्यनारायण गिरीमहाराज का समर्थन किया।

राष्ट्रीय हिन्दू सेना के नर्मदापुरम संभाग सह मन्त्री रूपराव भट्टकरे और संभाग युवा सेना अध्यक्ष मनिष मालवीय बताया कि संगठन के समस्त पदाधिकारी आयोजन में उपस्थित रहेंगे। तीन दिवसीय पृथ्वी समाधि कार्यक्रम में तन, मन, धन से पूर्ण सहयोग करेंगे। उल्लेखनीय है कि सिवनी के ब्रम्हज्ञानी संत डॉ. सत्यनारायण गिरी गोस्वामी महाराज जी अब तक कई पृथ्वी और जल समाधि ले चुके।

नर्मदापुरम संभाग अध्यक्ष दीपक कोसे ने कहा कि ब्रम्हऋषि के आशीर्वाद से संगठन को मजबूती मिलेगी। ऋषियों के ब्रम्हऋषि स्वामी सत्यनारायण महाराज से आशीर्वाद लेने बड़ी संख्या में राष्ट्रीय हिन्दू सेना के पदाधिकारी समाधि स्थल पर पहुंचेंगे। प्रदेशाध्यक्ष दीपक मालवीय ने भगवान सत्यनारायण महाराज का दिव्य पूजन आर्चन कर आशीर्वाद प्राप्त किया।

मां ताप्ती के तट पर बोरगांव में तीन दिवसीय जीवित समाधि लेंगे यह ब्रह्मज्ञानी संत, पहले भी ले चुके हैं 12 बार

प्रदेश अध्यक्ष दीपक मालवीय ने कहा कि भगवान शिव के दिव्य अवतार है स्वामी सत्यनारायण जी। आध्यात्म की अंतिम सीढ़ी ब्रम्हध्यानालीन समाधि होती है जो सिर्फ भगवान शिव ही लगाते हैं। बिना गुरू के सानिध्य के कई ब्रम्हध्यानालीन समाधि लगाने वाले संत सत्यनारायण महाराज कोई और नहीं है साक्षात भगवान शिव के अंशावतार हैं।

मध्य भारत प्रान्त अध्यक्ष पवन मालवीय ने बताया कि बैतुल जिले के कल्याण और उत्थान के पृथ्वी समाधि सद्गुरुदेव महंत डॉ. सत्यनारायण गिरी महाराज तीन दिवसीय पृथ्वी समाधि ले रहे हैं जिससे ताप्ती प्रदेश के किसानों मजदूरों, दुखियों की इच्छाएं पूर्ण होगी। जीने के लिए ईश्वर का पूर्ण सानिध्य प्राप्त होगा। ईश्वर द्वारा हमें दी गई दिव्य शक्तियों के बारे जानने का अवसर प्राप्त होगा।