Painting Competition : प्रतियोगिता में एक सैकड़ा बच्चों ने उकेरे पर्यावरण पर आधारित आकर्षक चित्र, पाए पुरस्कार

In the painting competition, one hundred children made attractive pictures based on the environment, got prizes

  • अंकित सूर्यवंशी, आमला
    स्वाधीनता के अमृत महोत्सव के तहत जिला खेल एवं युवा कल्याण विभाग बैतूल, अभिनव सामाजिक कल्याण संगठन एवं तनिष्क संगठन वर्धा के संयुक्त तत्वाधान में पर्यावरण संरक्षण विषय को लेकर बच्चों की प्रतिभा को चित्रकला के माध्यम से निखारने हेतु पं. जवाहरलाल नेहरू महाविद्यालय गोविंद कॉलोनी रतेड़ा रोड आमला में 27 अप्रैल को चित्रकला प्रतियोगिता संपन्न हुई।

    प्रतियोगिता तीन आयु वर्गों में संपन्न हुई। कक्षा पहली से तीसरी तक विषय पर्यावरण संरक्षण पर चित्रकला, कक्षा चौथी से आठवीं तक विषय पर्यावरण संरक्षण के प्रकार पर चित्रकला, कक्षा 9 वीं से ऊपर सभी के लिए विषय पर्यावरण संरक्षण के लिए चिंतन पर छात्र एवं छात्राओं ने सुंदर पेंटिंग बनाई लगभग 100 छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़कर इस प्रतियोगिता में भाग लिया।

    इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में जेएनएम कॉलेज के संचालक यशवंत चड़ोकार, जन अभियान परिषद के अरविंद माथनकर, शिल्पा चन्ने, घनीराम गड़ेकर, विवेक देशमुख, की उपस्थिति में रामनारायण शुक्ला युवा समन्वयक की संचालन व्यवस्था में आयोजित किया गया। जिसमें 1 से 3 कक्षा ग्रुप में प्रथम यादवी चोरे, द्वितीय अंश कोकाटे, तृतीय दीपांशु अतुलकर, 4 से 8 वीं तक ग्रुप में प्रथम श्रष्टि ठाकरे, द्वितीय निहारिका पंडोले, तृतीय गुंजन दरवाई, 9 से कॉलेज तक प्रथम सुमित पाल, द्वितीय वेदांत अग्रवाल और तृतीय स्थान आनंदी प्रजापति ने प्राप्त किया।

    सभी विजेता छात्र-छात्राओं को ट्रॉफी एवं प्रमाण पत्र प्रदान किए गए। अतिथियों द्वारा बच्चों को संबोधित कर उनके सर्वांगीण विकास में पेंटिंग के महत्व को समझाया। उन्हें बताया गया कि किताबों का ज्ञान तो हम पढ़कर प्राप्त करते हैं, लेकिन पेंटिंग जो होती है, उसे मन से बनाया जाता है। जो हमारे मन में चल रहा होता है, जो हमारे हृदय में होता है, हम उसी को कागज पर उतरते हैं।

    हमारी भावनाओं को व्यक्त करने का यह सशक्त माध्यम है पेंटिंग बनाते समय हमारा पूरा ध्यान केंद्रित होता है। निर्णायक के रूप में मैथ्यूस पॉल, श्रीमती शुभांगी एवं सदाराम झरबड़े उपस्थित थे। कार्यक्रम को सफल बनाने में महाविद्यालय के प्राचार्य केशवानंद साहू, हरिभाऊ झरबड़े, पाटनकर, विनोद अडलक का विशेष सहयोग रहा।

  • Get real time updates directly on you device, subscribe now.

    Leave A Reply

    Your email address will not be published.