फांसी पर लटके मिले शवों के मामले में नया मोड़: युवक की मां बोली-जान से मारने की मिली थी धमकी

New twist in the case of dead bodies found hanging: The young man's mother was threatened with death

बैतूल। पिछले दिनों बैतूल के पास चिखलार क्षेत्र के लालिया पहाड़ पर फांसी पर लटके मिले युवक और किशोरी के शव के मामले में नया मोड़ आ गया है। मृत युवक की मां ने शनिवार को बैतूल पहुंच कर एसपी कार्यालय और कोतवाली थाना में आवेदन सौंपा और संदेह जताया कि उसके बेटे और उक्त किशोरी की हत्या की गई है। उन्होंने मामले की उचित जांच किए जाने की मांग की है।

बेलकुंड निवासी शिक्षिका नीतू पत्नी रामेश्वर बारस्कर ने सौंपे आवेदन में कहा है कि उसका बेटा राजकुमार 2 साल से बैतूल रहकर प्रतियोगी परीक्षाओं और कम्प्यूटर की पढ़ाई कर रहा था। इस घटना से पहले एक मार्च को उन्हें एक कॉल आया था। कॉलर ने कहा था कि वे अपने बेटे को वापस गांव बुला लो, क्योंकि उसकी जान को खतरा है।

इस पर उन्होंने तत्काल ही अपने बेटे से बात की और वापस आने को कहा। अगले दिन 2 मार्च को वह वापस गांव आ गया। घर पर 4-5 दिन रहकर वह 7 मार्च को वापस बैतूल आ गया था। बैतूल आने पर उससे आखरी बार 9 मार्च को बात हुई थी। इसके बाद 13 मार्च को उनकी बेटी (जो कि बैतूल में ही रहती है) ने फोन करके बताया कि राजकुमार सुबह से फोन नहीं उठा रहा है और रूम पर भी नहीं है। आप लोग जल्द बैतूल आ जाओ।

बैतूल के लालिया पहाड़ पर एक चुनरी से फांसी पर लटके मिले युवक-युवती के शव, क्षेत्र में सनसनी, जांच में जुटी पुलिस

इस पर वे उसी दिन दोपहर एक बजे बैतूल पहुंच गई। यहां राजकुमार को ढूंढने के काफी प्रयास किए। राजकुमार के दोस्त भी यहां मिले। वे गुमशुदगी दर्ज कराने भी साथ गए। इस बीच उसके एक दोस्त ने यह बताया कि होली के चार दिन पहले राजकुमार बता रहा था कि उसे जान से मारने की धमकी मिली है और वे होली के दिन जान से मार देंगे।

लालिया पहाड़ पर मिले दोनों शवों की हुई पहचान, युवक आठनेर के बेलकुंड का और किशोरी बैतूल क्षेत्र की, कई दिन पुराने हैं शव

इसके बाद वे लगातार तलाश करते रहे पर उसका कुछ पता नहीं चला। 6 अप्रैल को उसकी मृत्यु की सूचना मिली। आवेदिका का कहना है कि उन्हें पूरा विश्वास है कि उसके पुत्र और उक्त किशोरी की हत्या की गई है। उन्होंने मामले की जांच कर उचित कार्रवाई की मांग की है।