गर्भवती होने पर भी कोविड वार्ड में अस्थाई रूप से कर ली स्टाफ नर्स की भर्ती

पोल खुली तो जिम्मेदारों पर कार्रवाई करने की बजाय नर्स की सेवा समाप्त कर दी

Temporarily recruited staff nurse in Kovid ward even when pregnant

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    कोरोना महामारी से निपटने के लिए बैतूल जिले में स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गई अस्थाई भर्ती में धांधली का बड़ा मामला सामने आया है। यहां नियम विरुद्ध एक गर्भवती स्टाफ नर्स की भर्ती कोविड वार्ड के लिए कर ली गई। यह नर्स लंबे समय तक अपनी सेवाएं भी वार्ड में देती रही। इस पूरे मामले की जब पोल खुली तो जिम्मेदारों पर कार्यवाही करने के बजाय नर्स की ही सेवा समाप्त कर दी गई है।

    मिशन संचालक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन भोपाल के निर्देश पर जिले में जिला चिकित्सालय बैतूल के अंतर्गत स्थापित डीसीएचसी फीवर क्लीनिकों में कार्यरत अस्थायी कोविड-19 संविदा अधिकारी/ कर्मचारियों को 30.12.2021 से 60 दिवस (दिनांक 27.02. 2022) तक यथावत उनके पदस्थापना स्थल पर कार्य करने हेतु आदेशित किया गया था।

    यह भी पढ़ें… संविदा स्वास्थ्यकर्मियों के नियमितीकरण के लिए विधायक निलय डागा ने भरी हुंकार

    शासन द्वारा दिये गये निर्देशानुसार किसी गर्भवती महिला को कोविड वार्ड में कार्य करने की अनुमति नहीं है। इसके बावजूद जिले में एक गर्भवती स्टाफ नर्स की भर्ती कर ली गई। यह नर्स लंबे समय तक कोविड वार्ड में ड्यूटी करती रही। इस मामले की जब पोल खुली तो आला अधिकारियों ने जिम्मेदारों पर ठोस कार्यवाही करने के बजाय सम्बंधित स्टाफ नर्स पर कार्यवाही करते हुए उसकी सेवा समाप्त कर दी।

    यह भी पढ़ें… मौत के बाद जागा स्वास्थ्य विभाग, मुलताई और जौलखेड़ा के क्लिनिक किए सील

    सीएमएचओ डॉक्टर एके तिवारी द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक, जिला चिकित्सालय बैतूल ने अवगत कराया है कि आपके द्वारा क्रमशः 24.04.2021, 06. 07:2021, 01.10.2021, 30.12.2021 को 89 दिवस के पश्चात् जिला चिकित्सालय बैतूल में पुनः कार्य पर उपस्थिति दी गई थी। आपके द्वारा इस कार्य अवधि में कभी भी मौखित या लिखित सूचना नहीं दी गई कि आप गर्भवती है। वर्तमान में आप 09 माह की गर्भवती है। जिसके कारण आपसे कोविड-19 वार्ड में कार्य लिया जाना संभव नहीं है।

    यह भी पढ़ें… पिता स्वास्थ्य विभाग में ड्राइवर, बेटा बन गया ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर

    चूकि कोविड-19 के अंतर्गत अस्थायी संविदा मानव संसाधनों की सेवायें निर्धारित समयावधि के लिये ली जा रही है एवं शासन द्वारा दिये गये निर्देशानुसार किसी भी गर्भवती महिला से कोविड वार्ड में कार्य नहीं लिया जा सकता है। अतः आपकी कोविड-19 अस्थायी संविदा सेवायें तत्काल प्रभाव से समाप्त की जाती है।

    यह भी पढ़ें… स्वास्थ्य विभाग के स्टोर कीपर के आवास पर ईओडब्ल्यू का छापा

    इन सवालों का नहीं फिलहाल कोई जवाब
    अधिकारियों ने नर्स की सेवा तो समाप्त कर दी, लेकिन इस मामले में कई सवाल अनुत्तरित हैं। पहला सवाल तो यही है कि क्या स्टाफ नर्स की नियुक्ति से पहले मेडिकल किया गया था या नहीं? यदि मेडिकल किया गया था तो चिकित्सक ने क्या पाया? नर्स के गर्भवती होने पर उसकी ड्यूटी कोविड वार्ड के बजाय अन्य जगह क्यों नहीं लगाई गई? जिला अस्पताल की मेट्रन की गंभीर लापरवाही उजागर होने के बाद भी उस पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई?

  • Leave A Reply

    Your email address will not be published.