नेहा की अनूठी कलाकारी: वेस्ट मटेरियल से बना दी विशाल चिड़िया

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    शहर के सौंदर्यीकरण को लेकर शासन स्तर पर विशेषकर नगरीय निकायों (urban bodies) में हर तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। ताकि एक तरफ जहां शहर साफ-सुथरा रहे, स्वस्थ रहे, प्रदूषण मुक्त रहे, वहीं शहर की रैंकिंग (Ranking) में भी इजाफा हो। रैंकिंग बढ़ेगी तो बैतूल का सम्मान भी बढ़ेगा।

    इसी तारतम्य में नगर पालिका परिषद बैतूल की ब्रांड एंबेसडर श्रीमती नेहा गर्ग (Neha Garg) ने भी अपना अनूठा योगदान दिया है। बैतूल नपा सीएमओ अक्षत बुंदेला के मार्गदर्शन में ब्रांड एंबेसडर श्रीमती गर्ग ने वेस्ट मटेरियल (waste material) से विशालकाय चिड़िया का निर्माण करवाया है। जिसे नगर पालिका परिषद ने शहर के व्यस्ततम तिराहे मुल्लाजी पेट्रोल पंप के सामने लगवाया है।

    इन्हें मिला बैतूल शहर की पहली ब्रांड एम्बेसडर बनने का गौरव, जानिएं कौन हैं वे और क्यों दी गई उन्हें यह जिम्मेदारी

    कबाड़ की सामग्रियों का किया उपयोग
    श्रीमती नेहा गर्ग ने बताया कि इस चिड़िया को बनाने के लिए उन सामग्रियों का उपयोग किया गया है, जिन्हें हम कबाड़ मानकर फेंक देते हैं। इस चिड़िया को बनाने में हमारी टीम ने प्लास्टिक की पानी की खाली फेंकी हुई बोतलें, प्लास्टिक के टूटे तसले, लकड़ी की टूटी टोकनियां, पुराने ताले, पुराने बिजली के बटन, बिजली के पुराने बोर्ड, पुरानी बंद पड़ी घड़ी, पेंट के डिब्बों के ढक्कन, कचरा उठाने की टूटी ट्रे, चाय छानने की टूटी छन्नी, बच्चों के टूटे खिलौनों का उपयोग किया है।

    स्वच्छ सर्वेक्षण-2022: स्कूली बच्चों को दिलाई स्वच्छता की शपथ

    इससे एक तरफ जहां कचरा फेंकने से बच गया। वहीं इस कचरे का सदुपयोग हो गया है। जिससे पर्यावरण भी प्रभावित नहीं होगा। प्रदूषण नहीं बढ़ेगा और बाकी लोगों को भी इससे सीख मिलेगी कि हमें भी कचरे का सदुपयोग करने के लिए ऐसे ही प्रयास करना चाहिए।

    ऐसे कार्यों से बढ़ेगी नपा की रैंकिंग
    इस संबंध में नपा के स्वच्छता निरीक्षक संतोष धनेलिया का कहना है कि स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में कबाड़ से जुगाड़ कर उससे कोई भी निर्माण किए जाने से रैंकिंग में भी वृद्धि होगी। अच्छे नंबर प्राप्त होंगे। जिससे शहर का भी नाम देश-प्रदेश स्तर पर बढ़ेगा। इससे शहरवासियों का सम्मान बढ़ेगा।

    शहरवासियों का भी बढ़ेगा सम्मान
    वैसे भी देखा जाए तो जब से स्वच्छता रैंकिंग में प्रदेश का इंदौर शहर पूरे देश में अव्वल आया है, तब से नगर निगम के अधिकारियों, कर्मचारियों के अलावा इंदौर शहर के नागरिकों का भी सम्मान बढ़ा है। बाकी शहरों के लोग यह मानने लगे हैं कि इंदौर के लोगों में स्वच्छता के प्रति विशेष चेतना है। जिसका प्रतिफल इंदौर को प्रथम स्थान मिल रहा है। इसी तरह बैतूल को भी स्वच्छता सर्वेक्षण में अच्छी रैंकिंग मिलेगी तो नपा अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ शहर वासियों का भी सम्मान बढ़ेगा।

  • Related Articles

    Back to top button

    Adblock Detected

    Please consider supporting us by disabling your ad blocker