जवान की शहादत पर पूर्व सैनिकों ने दिखाई संवेदनशीलता, की यह मदद

आपस में राशि एकत्रित कर शहीद की मां को सौंपा एक लाख रुपये का चेक

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    पूर्व सैनिक वेलफेयर एसोसिएशन सोसायटी बैतूल जवानों के परिवारों की मदद को एक बार फिर आगे आया। सोसायटी ने जम्मू कश्मीर में पत्थर की चोट से जूझते हुए शहीद हुए जवान स्वर्गीय नीतू मोहरे (CRPF) को उनके निवास स्थान ग्राम विजयग्राम कोयलारी (भैंसदेही) में जाकर श्रदांजलि अर्पित की और उनकी मां को 1 लाख रुपये का डिजिटल चैक प्रदान किया।

    कार्यक्रम में सांसद डीडी उइके एवं कांग्रेस नेता रामू टेकाम ने भी उपस्थित होकर श्रद्धांजलि अर्पित की। जिले के लिए बड़ी गर्व की बात है कि यहां बड़ी संख्या में ऐसे जवान हैं जो केंद्रीय व अर्द्ध सैनिक बलों जैसे CRPF, BSF, CISF, ITBP, SSB, ASSAM RIFLES, NSG, SPG आदि में हैं। वे घर से दूर जम्मू और कश्मीर, छत्तीसगढ़, झारखंड जैसे अति संवेदनशील एवं अन्य राज्यों में तैनाती देकर देश सेवा कर रहे हैं। इन जवानों की एकता सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं बल्कि जिले में भी देखने को मिलती है।

    पूर्व सैनिक वेलफेयर एसोसिएशन के उपाध्यक्ष जीत इंगले ने बताया कि वे लोग आपस में पैसे एकत्रित कर इस तरह मदद को आगे आते हैं। पूरे प्रदेश में ऐसा कोई संगठन नहीं है जो शहीद जवानों के परिजनों की इतनी बड़ी राशि से मदद करता हो। इन जवानों ने इससे पहले आमला निवासी स्वर्गीय शैलेन्द्र पंवार(BSF), शाहपुर निवासी स्वर्गीय जयपाल उइके (SSB), बैतूल निवासी स्वर्गीय प्रदीप साहू (CRPF) आदि जवानों की माँ की भी 1-1 लाख की राशि की मदद की। यह जवान भविष्य में भी इसी तरह कार्य को निरंतर रखते हुए जिले भर में अनेक प्रकार की सामजिक सेवा, शिक्षा, रोजगार, जवानों के कल्याण, पर्यावरण एवं जल संरक्षण के क्षेत्र में कार्य करने की योजना बना रहे हैं।

    श्रद्धांजलि कार्यक्रम में विकास भलावी सीआईएसएफ, संजय ढोलकर एक्स जवान, एसएन नागले एक्स जवान, कमलेश कड़वे, सुनील काकोडिया एसएसबी, आशीष काकोडिया एसएसबी, दिनेश काकोडिया बीएसएफ, सतीश कुमार धुर्वे आईटीबीपी, दीपक वरकड़े आईटीबीपी, बलवंत अहाके बीएसएफ, राजेश इवने एसएएफ, मनीष मर्सकोले एसएएफ, विजय उइके आर्मी जवान, प्रद्युम्न तुमड़ाम सीआरएफएफ, श्रीराम पन्द्राम सीआरपीएफ शामिल हुए। सभी ने नीतू मोहरे अमर रहे के नारे लगाते हुए श्रद्धांजलि दी व शहीद जवान के परिवार के साथ बातें कर उनकी पीड़ा को बांटने की कोशिश की।

    यह भी पढ़ें… शिक्षकों ने दिखाई संवेदनशीलता: साथी की मौत पर परिजनों को सौंपी एक लाख की एफडी

  • Get real time updates directly on you device, subscribe now.

    Leave A Reply

    Your email address will not be published.