अब बच्चे करेंगे हवन, यज्ञ, गृह प्रवेश और विभिन्न संस्कार

वायगांव में गायत्री परिवार ने आयोजित किया 15 दिवसीय कर्मकांड प्रशिक्षण शिविर

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    प्रभात पट्टन विकासखंड के ग्राम वायगांव में गायत्री परिवार द्वारा आयोजित 15 दिवसीय कर्मकांड प्रशिक्षण शिविर का समापन हुआ। शिविर के समापन पर मुख्य अतिथियों ने बच्चों को साहित्य और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। गायत्री परिवार के उपजोन समन्वयक दीपचंद मालवी, जिला समन्वयक डॉक्टर कैलाश वर्मा, जिला सचिव रविशंकर पारखे, पर्यावरण प्रभारी अमोल पानकर, जिला युवा प्रकोष्ठ सह प्रभारी अनुप वर्मा, विकासखंड प्रभारी सुभाष महस्की, शान्तिकुन्ज हरिद्वार से आए शिखर मायवाड, वायगांव प्रज्ञापीठ ट्रस्टी सहादेव धोटे, प्रज्ञावाचक अविनाश खण्डाग्रे, नव चेतना केन्द्र सावंगी प्रभारी रमेश बारस्कर, खेड़ीकोर्ट से जितेंद्र प्रसाद सोनी, सिरडी से गोविन्दराव लिखितकर, साईखेड़ा से कुण्डलिक साद, बाल संस्कार शाला शिक्षक दुर्गेश कुमार भोयरे, प्रशिक्षिका संगीता घोडकी की उपस्थिति में कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

    कार्यक्रम प्रभारी दुर्गेश भोयरे ने बताया कि लगातार 15 दिनों से बच्चों को भिन्न-भिन्न प्रकार से कर्मकांड ( हवन पूजन, दीप यज्ञ गृह प्रवेश, पुंसवन संस्कार, मुण्डण संस्कार ) का विस्तृत प्रशिक्षण दिया गया। बच्चों ने कम समय में अच्छी तरह से प्रशिक्षण लेकर उपलब्धि हासिल की। तत्पश्चात सभी बच्चों का आध्यात्मिक और मौखिक प्रेक्टिकल लिया गया।उन्होंने कहा कि आगामी प्रशिक्षण बड़े मंच के माध्यम से पूरे जिले में किया जाएगा। कार्यक्रम में दीपचंद मालवी ने बच्चों की सराहना करते हुए उन्हें राम के प्रति हनुमान की निष्ठा और प्रेम का उदाहरण देते हुए समझाया।

    डॉक्टर कैलाश वर्मा ने कहा कि बच्चे देश का भविष्य हैं। इन्हें मार्गदर्शन और सही दिशा की आवश्यकता है। उन्होंने बच्चों से गांव और समाज से आगे निकल कर देश की सेवा में हमेशा तत्पर रहने को कहा। सुभाष महस्की ने गायत्री सदग्रंथ स्थापना साहित्य को घर-घर में स्थापित करने की योजना बताई। कार्यक्रम में गायत्री परिवार के श्रावण धोटे, डॉक्टर अनिल कडू, संतोष बारस्कर, किसना देवडे, तरूण दरवाई ने विशेष सहयोग प्रदान किया।