जज का भाई लड़ रहा पंच पद के लिए चुनाव, खुद भी हैं पोस्ट ग्रेजुएट

मां हाल ही में छात्रावास अधीक्षक पद से हुईं सेवानिवृत्त, गांव के पिछड़ेपन को दूर करने की है चाह

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    त्रि स्तरीय पंचायत चुनाव के प्रथम और द्वितीय चरण के लिए नाम वापसी के बाद चुनाव चिन्ह भी आवंटित हो गए हैं। इसके साथ ही मुकाबले की तस्वीर भी पूरी साफ हो गई है। अमूमन होता यही है कि पढ़े-लिखे युवा इन चुनावों में जरा भी रुचि नहीं लेते और पंच पद के लिए तो कई बार उम्मीदवार ढूंढने से भी नहीं मिलते हैं, लेकिन अब स्थिति बदल रही है। पंचायत चुनाव के समर में अब पढ़े-लिखे युवा भी उतर रहे हैं ताकि अपने क्षेत्र और गांव का पिछड़ापन दूर कर विकास की बयार बहा सके।

    बैतूल से बिल्कुल सटी खेड़ला ग्राम पंचायत के वार्ड क्रमांक 19 चिखलार में भी ऐसा ही सुखद दृश्य देखने को मिल रहा है। यहां पंच पद के लिए एक ऐसा युवा चुनाव मैदान में है जिसके पंच पद का चुनाव लड़ने की शायद ही किसी ने उम्मीद की थी। इस वार्ड से 2 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें एक उम्मीदवार मन्तू झम्मक उइके और दूसरे उम्मीदवार हैं विक्रम सिंह उईके। विक्रम उर्फ विक्की के सगे भाई पुष्प राज और बहू रुपाली राज दोनों न्यायाधीश हैं और छिंदवाड़ा जिले के सौसर में पदस्थ हैं। विक्की की मां श्रीमती लक्ष्मी उइके भी अभी हाल ही में छात्रावास अधीक्षिका पद से सेवानिवृत्त हुई हैं। वे लंबे समय तक जिला मुख्यालय के कन्या क्रीड़ा छात्रावास में पदस्थ रहीं।

    यह भी पढ़ें… पंचायत चुनाव अपडेट: जिला पंचायत सदस्य के इतने दावेदारों ने लिए नाम वापस

    विक्की स्वयं भी स्नातकोत्तर तक पढ़े हैं और अभी एलएलबी की पढ़ाई कर रहे हैं। इसके पहले उन्होंने बीबीए, एमएसडब्ल्यू और डीसीए के डिप्लोमा कर लिए हैं। उनकी पढ़ाई-लिखाई और पारिवारिक पृष्ठभूमि के बारे में जानने के बाद लोगों को भी यह आश्चर्य होता है कि वे पंच पद के लिए चुनाव लड़ रहे हैं।

    यह भी पढ़ें… पंचायत चुनाव अपडेट: जिपं सदस्य प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह आवंटित, देखें किन्हें क्या प्रतीक मिले

    ‘बैतूल अपडेट’ से चर्चा में विक्रम सिंह ने बताया कि कोई चुनाव छोटा या बड़ा नहीं होता है, चुनाव तो चुनाव ही होता है। मैं चुनाव मैदान में इसलिए आया हूं कि जिला मुख्यालय के पास होने के बाद भी चिखलार गांव का विकास नहीं हो पाया है। यहां के लोग बहुत सीधे-साधे हैं। उनके जीवन स्तर को ऊपर उठाने और गांव को विकास की ओर अग्रसर करने की ठानकर मैंने चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। चुनाव जीतकर मैं अपनी यह जिद और जुनून को जरूर पूरा करूंगा।

    यह भी पढ़ें… बेमिसाल: ग्रामीणों ने बगैर मोहर लगाए ही निर्विरोध चुन लिए पंच से लेकर सरपंच

  • Get real time updates directly on you device, subscribe now.

    Leave A Reply

    Your email address will not be published.