ग्रेट: 42 की उम्र में अपने रक्त से दे चुके 80 लोगों को जीवनदान

मोइज ने किया 80 वीं बार किया रक्तदान, नेगेटिव ग्रुप के बावजूद सोच पॉजिटिव

  • उत्तम मालवीय, बैतूल © 9425003881
    परोपकार की भावना हो तो व्यक्ति इसके लिए कोई ना कोई रास्ता तलाश ही लेता है। इनमें भी रक्तदान तो एक ऐसा परोपकार है जिसमें दुनिया का सबसे बड़ा ‘जीवनदान’ दिया जा सकता है। बैतूल के कुछ परोपकारी यही महादान करने में लंबे समय से जुटे हैं। इनमें मोइज फखरी का नाम गर्व से लिया जा सकता है। वे महज 42 वर्ष की उम्र में अभी तक 80 बार रक्तदान कर लोगों को जीवनदान दे चुके हैं। रविवार को उन्होंने अपने जीवन का 80 वां रक्तदान किया। उनका रक्त ग्रुप भले ही दुर्लभ ओ ‘निगेटिव’ हो पर परोपकार को लेकर उनकी सोच बेहद ‘पॉजिटिव’ है। रविवार को एक महिला कुसुम को ओ निगेटिव ब्लड की आवश्यकता पड़ी। इस ग्रुप के रक्तदाताओं की संख्या काफी कम होने के कारण जब परिवार परेशान हुआ तो मसीहा बनकर मोइज फकरी आए और उन्होंने ब्लड देकर महिला की जान बचाई। इस अवसर पर शैलेन्द्र बिहारिया ने कहा कि बैतूल जिले में मोइज फकरी एक ऐसा नाम है जो जरूरत पड़ने पर थैलेसीमिया व सिकलसेल के बच्चों के लिए हमेशा दौड़ पड़ते हैं। वे जिले के एक मात्र निगेटिव रक्तदाता हैं, जिन्होंने 80 बार रक्तदान का आंकड़ा छुआ है। शैलेन्द्र बिहारिया ने कहा कि मोइज जैसे रक्तवीरों के कारण ही जिले में रक्तदान की गंगा बह रही है।