पूर्व छात्रों ने स्थापित की मां सरस्वती की प्रतिमा, गुरुजनों का किया सम्मान

महत्वपूर्ण व उच्च पदों पर हैं आसीन, फिर भी जुड़े हैं अपनी जड़ों से


बैतूल। आठनेर नगर के उत्कृष्ट हायर सेकेंडरी स्कूल से पढ़ाई कर चुके पूर्व छात्रों के समूह ‘दी-7Ó ने सराहनीय पहल करते हुए अपने पूर्व स्कूल में विद्या की देवी माता सरस्वती की संगमरमर की सुंदर प्रतिमा विराजित की। भाई दूज को हुए कार्यक्रम में स्कूल परिसर में देवी सरस्वती की पूजा विधि विधान के साथ स्थापित की गई। इसके बाद पूर्व छात्रों ने अपने पूर्व गुरुओं का नारियल, श्रीफल और स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया और उनके चरण छूकर आशीर्वाद प्राप्त किया।
यह पूर्व-छात्र स्कूल के 1999 से 2002 बैच के हैं और अभी वर्तमान में निजी और सरकारी उपक्रमों में ऊंचे पदों पर कार्यरत हैं। कोई सेना में अपनी सेवाएं दे रहा है, तो कोई बैंक में कार्यरत हैं, कोई बॉलीवुड में अपनी कला का प्रदर्शन कर रहा है तो कोई बड़ी कंपनी में सीईओ हैं। सभी पूर्व छात्र सपरिवार कार्यक्रम में शामिल हुए। शिक्षक पूर्व प्राचार्य लक्ष्मण बेले, वरिष्ठ व्याख्याता एनजी खाड़े, आरके खाड़े, पीएल सोनी, जीआर गायकी, अशोक कापसे, एनआर चढ़ोकार, मोहम्मद सादिक खान, सुरेश कुमार बुआड़े सहित अन्य शिक्षक भी परिवार सहित कार्यक्रम में शामिल हुए। इसके बाद दीपावली मिलन के तहत सामूहिक सहभोज हुआ। पूर्व छात्रों ने अपनी सफलता का श्रेय अपने गुरुओं को देते हुए कहा कि उनके द्वारा दी गई शिक्षा की बदौलत ही आज ऊंचे मुकाम पर पहुंचे हैं। पूर्व छात्र और गुरुओं ने अपने उद्गार बताते हुए जीवन के पुराने किस्सों को साझा किया। दी-7 समूह में पूर्व छात्र हरिओम कनाठे, बलवंत पोटफोड़े, जितेंद्र झरबड़े, विनोद सोनी, राहुल सोनी, दिलीप पंडाग्रे, हेमंत माथुरकर शामिल हंै। इसके अलावा पूर्व छात्र डॉ. सुशील सोनी, मृदुल जायसवाल, भूषण जैन, संजय सोनी, निखिल सोनी, रुपेंद्र झरबड़े, एस. म्हस्की, अनूप सोनी, हनुवंत कनाठे सहित वर्तमान में कार्यरत शिक्षक-शिक्षिकाएं भी परिवार सहित मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर सुशील सोनी और हरिओम कनाठे ने किया।
@ आठनेर से निखिल सोनी

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.