बेटी का शुद्धिकरण कराने वाले पिता समेत 4 पर एफआईआर

कोतवाली बैतूल पुलिस ने मामला दर्ज कर डायरी भेजी चोपना थाना

  • उत्तम मालवीय (9425003881)
    बैतूल।
    अनुसूचित जाति वर्ग के युवक से प्रेम विवाह करने पर बेटी का शुद्धिकरण करवाने वाले पिता और 3 रिश्तेदारों पर कोतवाली पुलिस थाना बैतूल में विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। कोतवाली पुलिस द्वारा मामला दर्ज कर डायरी चोपना थाना भेजी जा रही है। इस मामले में शुक्रवार को युवती ने अपने पति के साथ एसपी से शिकायत की थी।
    कोतवाली बैतूल टीआई रत्नाकर हिंगवे ने बताया कि इस मामले में धीरज, राधेश्याम, महेश एवं मधु उर्फ मदन के तहत धारा 506, 504, 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है। प्रकरण की केस डायरी चोपना भेजी जा रही है। उल्लेखनीय है कि कल प्रेम विवाह करने वाली युवती एसपी सिमाला प्रसाद से शिकायत की थी कि उसने अपनी मर्जी से टिकारी बैतूल निवासी अमित अहिरवार (27) से 11 मार्च 2020 को आर्य समाज बैतूल में प्रेम विवाह किया है। विवाह के पश्चात से ही मेरे परिवार के सदस्य मुझे जान से मारने की धमकी दे रहे है। मेरे पिता ने पहले गुमशुदगी की रिपोर्ट 10 जनवरी 2021 को चोपना थाने में दर्ज करवाई।

    घर लाने के बजाय ले गए इंदौर
    इस पर चोपना पुलिस बैतूल से मुझे बिना किसी आदेश के मेरी इच्छा के विरुद्ध चोपना थाने में बयान करवाने की बात कह कर ले गई तथा चोपना थाने के बाहर कोरे कागज पर हस्ताक्षर करवा लिए। उसके पश्चात मुझे मेरे पिताजी के घर छोड़ दिया। मैं 12 फरवरी 2021 को नर्सिंग की ट्रेनिंग हेतु राजगढ़ गई थी। रक्षाबंधन पर मेरे पिता मुझे राजगढ़ लेने 18 अगस्त 2021 को आए और जबरदस्ती इंदौर लेकर आए। वहां से 19 अगस्त 2021 को होशंगाबाद लेकर आए।
    घाट पर फिंकवा दिए पहने गए कपड़े
    वहां पर मेरे पिताजी एवं अन्य तीन लोगों ने मुझे नर्मदा नदी के सेठानी घाट पर कहा कि इसने दलित समाज के युवक से शादी की है। इसलिए इसकी पूजा पाठ कर शुद्धिकरण कराना पड़ेगा। उन्होंने मुझे मेरी इच्छा के विरुद्ध आधे वस्त्रों में नहलाया फिर जूठी पूड़ी खिलवाई तथा मेरी इच्छा के विरुद्ध मेरी चोटी के बाल काटे। जो कपड़े मैंने पहने थे, उन्हें वहीं पर सेठानी घाट पर फिंकवाए। उक्त घटना का विरोध करने पर मारपीट भी की। हम दोनों खुशी से अपने जीवन का निर्वहन करने के लिए तैयार हैं परंतु मेरे परिवार के सदस्य निरंतर मुझे तथा अमित के परिवार को डरा धमका रहे हैं।