पाथाखेड़ा में विराजेंगी 12 फीट ऊंची दक्षिणेश्वरी माता महाकाली

कोलकाता के सबसे प्रसिद्ध मंदिर में है माता का यह स्वरूप

  • उत्तम मालवीय (9425003881)
    बैतूल।
    कोलकाता के सबसे प्रसिद्ध और ऐतिहासिक मंदिर में विराजी दक्षिणेश्वरी काली जी के स्वरूप की इस बार दीपावली में पाथाखेड़ा में स्थापना की जाएगी। दक्षिणेश्वरी काली समिति हॉस्पिटल कॉलोनी बाजार मोहल्ला पाथाखेड़ा द्वारा इस दौरान विभिन्न धार्मिक सामाजिक कार्यक्रमों का आयोजन 9 दिनों तक किया जाएगा। समिति के अध्यक्ष मधु जगदेव ने बताया कि माता महाकाली का यह स्वरूप कालिबाड़ी उत्तर कोलकाता स्थित बैरकपुर में विवेकानंद सेतु के कोलकाता छोर के पास हुगली नदी के किनारे स्थित ऐतिहासिक मंदिर में हैं। यह कोलकाता के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है और कई मायनों में कालीघाट मंदिर के बाद सबसे प्रसिद्ध काली मंदिर है। इसे वर्ष 1854 में जान बाजार की रानी रासमणि ने बनवाया था। समिति के उपाध्यक्ष अजय सोनी, सचिव गोलू विश्वकर्मा, कोषाध्यक्ष संजय धड़से एवं निशांत भंडारे ने बताया कि क्षेत्र के सभी हिंदू संगठन इस आयोजन के लिए सहयोग कर रहे हैं। सामाजिक कार्यकर्ताओं का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। माता महाकाली के विराजमान होने का यह प्रथम वर्ष और क्षेत्रवासी काफी उत्साहित हैं। महाकाली का विसर्जन 12 दिसंबर को विशाल भंडारे के साथ होगा।