मौत के बाद भी धड़कता रहेगा विनय का दिल

सड़क हादसे में युवक की मौत होने पर परिजनों ने पेश की परोपकार की मिसाल, किए अंगदान


उत्तम मालवीय (9425003881)
बैतूल। जिले के चिचोली क्षेत्र के ग्राम जोगली निवासी विनय गंगारे भले ही एक सड़क हादसे का शिकार होने के बाद इस दुनिया में नहीं रहे, लेकिन उनका दिल न केवल इसी दुनिया में रहेगा बल्कि धड़कते हुए वह कई लोगों की जिंदगी में खिलखिलाहट भी बरकरार रखेगा। ऐसा सम्भव होगा विनय के परिजनों की दानशीलता, संवेदनशीलता और उदारता से, जिन्होंने परिवार के एक महत्वपूर्ण सदस्य को खोने के बावजूद परोपकार की भावना दिखाते हुए उसके दिल (हार्ट) के साथ ही लीवर और किडनी भी दान कर दिए हैं। विनय के यह अंग दूसरों को जीवन दान दे सकेंगे। परिवार से सहमति मिलने के बाद डॉक्टरों ने भी बिना देरी किए कागजी कार्यवाही के बाद मृत शरीर से हार्ट, किडनी और लीवर निकाले और उन्हें किसी अन्य मरीज के लिए बॉम्बे भी रवाना कर दिए हैं। इससे मौत की दहलीज पर खड़े का एक अन्य युवक को नई जिंदगी मिल गई। जानकारी के अनुसार ग्राम जोगली निवासी विनय गंगारे (27) दशहरे के दिन ग्राम खापा में सड़क दुर्घटना का शिकार हो गया था। दुर्घटना में घायल विनय को जिला अस्पताल भर्ती किया गया था। हालत गंभीर होने पर यहां से उसे 16 अक्टूबर को नागपुर रेफर किया गया। नागपुर के वोकार्ड अस्पताल में 5 दिन उपचार चलने के बाद 21 अक्टूबर को विनय की मौत हो गई। डॉक्टरों के अनुसार विनय गंगारे को टेस्ट के बाद ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया था। इसके बाद मृतक के पिता शिवनारायण गंगारे और छोटे भाई अजय गंगारे ने मृतक विनय गंगारे के अंगों को दान करने की इच्छा जताई। इसके बाद मृतक का हार्ट, किडनी और लीवर का दान किया गया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

2 Comments
  1. Jitendra Kumar Peswani says

    मोटीवेट करने वाली खबर

    1. थैंक्स भैया👏

Leave A Reply

Your email address will not be published.