पति ने पहले घोंटा पत्नी का गला फिर कुचल दिया पत्थर से सिर, यह है वजह

भीमपुर के पाट क्षेत्र का मामला, पुलिस ने आरोपी पति को किया गिरफ्तार


उत्तम मालवीय (9425003881)
बैतूल। चरित्र संदेह के चलते एक पति ने अपनी पत्नी की साड़ी से गला घोंट कर हत्या कर दी। जंगल में शव मिलने पर पुलिस ने पूछताछ की तो आरोपी पति ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उसने पहले तो पत्नी का गला घोंट कर बेहोश किया और फिर पत्थर से सिर कुचल कर हत्या कर दी। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।
पुलिस के अनुसार 19 अक्टूबर की दोपहर में पुलिस चौकी भीमपुर में एक महिला का शव ग्राम पाट क्षेत्र में डढारी बीट साटई के जंगल में मिलने की सूचना प्राप्त हुई थी। चौकी भीमपुर तथा थाना चिचोली के स्टाफ द्वारा मौके पर पहुंच कर मुआयना करने पर जंगल मे एक महिला मृत अवस्था में पड़ी मिली। उसके गले में लाल रंग का साड़ी का फंदा बंधा था एवं चेहरे पर चोट लगी थी। मौके पर मौजूद लोगों द्वारा मृतिका की पहचान सुगरती पत्नी प्रेमदास बट्टी (42) निवासी पाट के रूप में की गई। मृतिका की मृत्यु प्रथम दृष्टया गला दबाकर और चेहरे पर भारी ठोस वस्तु के प्रहार से होना प्रतीत होने पर सूचनाकर्ता फूलेसिंह की रिपोर्ट पर मर्ग व धारा 302 के तहत अज्ञात आरोपी के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
पत्नी के चरित्र पर था संदेह
विवेचना के दौरान मृतिका व आसपास के लोगों से पूछताछ के आधार पर मृतिका के पति प्रेमदास बट्टी की भूमिका संदेहास्पद पाए जाने से संदेही प्रेमदास बट्टी को अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की गई। उसने चरित्र की शंका को लेकर अपनी पत्नी सुगरती बाई का उसी की साड़ी से गला दबाकर बेहोश होने पर झाडिय़ों मे ले जाकर पत्थर से चेहरे पर वार कर हत्या करना स्वीकार किया। आरोपी से मेमोरेण्डम के आधार पर उसकी निशानदेही पर घटनास्थल के पास से घटना में प्रयुक्त पत्थर एवं मृतिका के पैरों में पहने चांदी के कड़े बरामद किए गए हैं। आरोपी प्रेमदास पिता डोमा बट्टी (42) निवासी पाट भीमपुर को गिरफ्तार कर लिया गया है।
मामले के खुलासे में इनकी रही भूमिका
आरोपी प्रेमदास की गिरफ्तारी कर अंधे कत्ल के मामले का 12 घंटे के अंदर तत्परता से खुलासे में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी चिचोली निरीक्षक अजय कुमार सोनी, चौकी प्रभारी भीमपुर पुरुषोत्तम गौर, उप निरीक्षक संदीपकुमार परतेती, प्रधान आरक्षक आलोक पटेल, आरक्षक छोटेलाल, सैनिक अशोक नर्रे, दिलीप, आरक्षक तरूण, विजय वास्कले का सराहनीय योगदान रहा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.